ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
10 रूपये की लागत से तैयार किया मास्क,स्वास्थ्य कर्मियों को किया समर्पित
April 20, 2020 • Admin

भोपाल। कोरोना वायरस से संक्रमण से बचाव के लिए पर्वतारोही मेघा व उनके सहयोगी ने सबसे कम लागत में मास्क तैयार करने की विधि तैयार की है जिससे उनके द्वारा मास्क का निर्माण कर पुलिस, डॉक्टर, निगम कर्मियों को समर्पित किया है। पूरे देश में कोरोना से बचाव  को लेकर केन्द्र व राज्य सरकार के द्वारा लॉक डाउन घौषित किया गया है वहीं जनता को मास्क व सेनेटाईजर हेंड ग्लब्स का उपयोग अनिवार्यं रूप से किया गया है। जिससे इस महामारी से बचाया जा सके व तेजी से फेल रही है जिसे रोकने में कारगर साबित हो सके। इस कार्य में राजधानी में ही अनेकों समाज सेवी संस्थाएं अपना पूरा योगदान दे रही हैं। वहीं कुछ स्वयं की लागत से मास्क का निर्माण कर मुफ्त में वितरित कर रहे हैं। उन्हीं में से एक हैं मेघा परमार जो कि राष्ट्र स्तर की पर्वतारोही भी है। उनके द्वारा लोगों के लिए अनोखा स्क्रीन सीट मास्क बनाया गया है। जहां यह मास्क विदेशों में 200 रूपये की लागत का है वही शोभित शर्मा और मेघा परमार द्वारा यह भारतीय जुगाड़ू मास्क घरेलू चीजें और स्टेशनरी कि कुछ आवश्यक चीजों से केवल मात्र 10 रूपये में तैयार कर दिया गया है। इस मास्क को बनाने में केवल एक इलास्टिक की 40 सेंटीमीटर रबड़,  पोलीस पार्टिसिपल फिल्म और डबल साइड टेप का उपयोग किया गया है ।  इससे देशभर में भी कई लोग प्रेरित हो रहे हैं और मास्क बनाकर सभी जगह पर दे रहे हैं।  इस स्क्रीन शीट मास्क को बनाकर उन्होंने हमारे जांबाज सिपाहियो  को दिए हैं जो हमारी रक्षा के लिए डटकर खड़े हुए हैं कोरोना के समय जैसे डॉक्टर हमारे पुलिस ऑफिसर सफाई कर्मचारी सभी को घर पर बना कर अपनी पॉकेट मनी से बनाकर वितरित किए गए हैं डॉक्टर द्वारा इन सभी मास्क का उपयोग किया जा रहा है। और इसकी बहुत सराहना की जा रही है वहीं पुलिस बल अपने कई अन्य और संसाधनों से इस तरह के मांस्क स्क्रीन शीट मास्क बनवा रहे हैं इस मास्क की इनोवेशन की सराहना हर जगह की जा रही है जब मेघा और शोभित से पूछा गया यह विचार उनको कहां से आया तो उन्होंने बताया कि जब सच्चे दिल से हम चाहते हैं कि हम किसी की मदद करें तो कहीं ना कहीं से कोई ना कोई उपाय आ ही जाता है । हम घर में बैठे थे चाहते थे कि लोगों की मदद करें तो यह आईडिया शोभित नाथ शर्मा को आया, तो उन्होंने इसे बनाने के बाद इसको नाम दिया स्कीम सीट मास्क। हम ऐसा कुछ कर सकते हैं कोई भी व्यक्ति यदि हंसेगा, खासी या छींकेगा तो उसका असर सामने वाले पर नहीं होगा। इस मास को दूसरे दिन सैनिटाइजर से साफ करके पुन: उपयोग किया जा सकता है। मेघा शोभित ने कई दिनों से लगातार इन मास्को बनाकर अपनी पॉकेट मनी से सभी पुलिस अफसर और डॉक्टर को दिया है। इसकी सराहना डीआईजी व सीएमएचओ  द्वारा की गई है। जे पी अस्पताल के डॉक्टर और नर्स इसका उपयोग भी करने लगे हैं और उनके द्वारा कहा गया है कि इस तरह के और भी मांस्क बनाकर सब लोगों को उपयोग करना चाहिए। मेघा शोभित ने इस तरह के वीडियो बनाकर सभी सोशल मीडिया पर डाल दिए हैं ताकि लोग बनाना सीखे।