ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
आयुक्त चिकित्सा शिक्षा की अध्यक्षता में कोरोना समीक्षा बैठक आयोजित
July 2, 2020 • Admin • मध्यप्रदेश

भिण्ड । आयुक्त चिकित्सा शिक्षा निशात बरबडे की अध्यक्षता में आज जिला पंचायत भिण्ड में कोरोना संक्रमण संबंधी समीक्षा बैठक आयोजित की गई। बैठक में कलेक्टर वीरेन्द्र सिंह रावत, पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार सिंह, डिप्टी डारेक्टर आईडीएसपी डॉ सौरभ पुरोहित, अपर कलेक्टर अनिल कुमार चांदिल, एसडीएम भिण्ड ओमनारायण सिंह, मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ अजीत मिश्रा, सिविल सर्जन डॉ रविन्द्र मिश्रा सहित अन्य चिकित्सक, एएनएम, आशा कार्यकर्ता सहित अधिकारीगण उपस्थित थे। आयुक्त चिकित्सा शिक्षा श्री निशात बरबडे ने बैठक में जिले में कोरोना संक्रमण को लेकर सभी संबंधित अधिकारियों के साथ बैठक में विभिन्न बिन्दुओं पर चर्चा कर दिशा निर्देश दिए। बैठक में आयुक्त श्री बरबडे ने जिले में अभी तक प्राप्त पॉजिटिव मरीजो की जानकारी प्राप्त की। इसके साथ उनकी कोन्टेक्ट हिस्ट्री एवं जिले में बनाए गए कन्टेनमेंट ऐरिया के बारे में विस्तार से जानकारी प्राप्त कर आवश्यक दिशा निर्देश दिए। उन्होंने फील्ड सर्वे में लगे दल तथा सेम्पलिंग कर रहे दल से विभिन्न बिन्दुओं पर जानकारी प्राप्त कर उन्हें आवश्यक दिशा निर्देश दिए। इसी के साथ भोपाल से आए डिप्टी डारेक्टर आईडीएसपी डॉ सौरभ पुरोहित ने भी कोरोना संक्रमण से संबंधित विभिन्न विषयों पर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को जानकारी प्रदान की। आयुक्त श्री बरबडे ने बैठक में कहा कि कोन्टेक्ट ट्रेसिंग पर विशेष ध्यान दिया जाए। साथ ही कंटेनमेंट ऐरिया का सर्वे ठीक ढंग से किया जाए। कंटेनमेंट ऐरिया में सभी व्यक्तियों का सर्वे सुनिश्चित किया जाए। उन्होंने फीवर क्लीनिक का प्रचार प्रसार ज्यादा से ज्यादा आम नागरिको में पहुंचाने की बात कही। उन्होंने बताया कि फीवर क्लीनिंग में बुखार, सर्दी, खांसी, गले में खरास एवं सांस लेने में तकलीफ की जांच हेतु आमजन फीवर क्लीनिक का उपयोग करें। चिकित्सा शिक्षा आयुक्त ने कहा कि कोरोनटाईन ऐरिया को बढाया जाए एवं बेडों की संख्या भी बढाई जाए। कंटेनमेंट ऐरिया में नगर पालिका सीएमओ द्वारा सफाई पर विशेष ध्यान दिया जाए। उन्होंने कहा कि भिण्ड को कोरोना मुक्त करने में अधिकारी अहम भूमिका निभाऐ। किल कोरोना अभियान 1 जुलाई से प्रारंभ होकर 15 जुलाई 2020 तक चलेगा। इस दौरान उन्होंने निर्देश दिए कि सर्वे कार्य में लापरवाही नहीं बरती जाए जो अधिकारी पर्यवेक्षण कार्य में लगे हुए है वे घर-घर जाकर पूछें कि सर्वे की टीम आपके यहां आई है कि नहीं। यदि पर्यवेक्षण का कार्य सही होगा तो कोई भी व्यक्ति सर्वे से छूटेगा नहीं। उन्होंने कहा कि मेरा प्रयास है कि भिण्ड को कोरोना मुक्त बनाया जाए।