ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
अंतरराष्ट्रीय ग्रीन बिल्डिंग मैटेरियल समिट में आज क्रश सेंड [क्रेशर पर पत्थर से बनी रेत] पर गोष्ठी आयोजित
February 15, 2020 • Vijay sharma

भोपाल।प्रदेश सरकार के द्वारा नदियों में उत्खनन को रोकने के लिए क्रस सेंड को बढ़ावा देने के लिए अंतररष्ट्रीय गोश्ठी का आयोजन किया गया जिसमें प्रशासन के साथ ही अन्यप्रदेशो से आये वैज्ञानिक  ने अपने विचार व्यक्त किये।आज राजधानी में मध्यप्रदेश के खनिज मंत्री  प्रकाश जायसवाल ने कहा कि भविष्य क्रश सेंड का ही है। सरकार अब क्रश सेंड को बढ़ावा देगी । समिट में सी एस आई आर डायरेक्टर श्रीवास्तव महाराष्ट्र खनिज निगम के अध्यक्ष श्री प्रकाश जायसवाल  मध्यप्रदेश चेंबर्स आफ कामर्स इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष  आलोक गोस्वामी उपाध्यक्ष एवं म.प्र.क्रेशर इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष  देवेन्द्र पाल सिंह चावला राजीव गांधी औधोगिक विश्व विद्यालय  सुनील कुमार  मेंबर सेक्रेट्री  आर एस कोरी,  सुधीर पालीवाल ग्रीन ‌एशियान इंडस्ट्रीज नागपुर ने संबोधित किया के साथ प्रदेश के बिल्डर क्रेशर मालिक गणमान्य नागरिक उपस्थित थे तीन दिवसीय समिट का आज आखरी दिन था प्रथम दिवस फ्लाई ऐश पर के उपयोग को प्रोत्साहित करने पर चर्चा हुई थी जिसमें  मलय श्रीवास्तव जी प्रमुख सचिव पी डब्ल्यू डी मध्यप्रदेश शासन ने संबोधित किया एवं उपयोग के शीघ्र दिशा निर्देश जारी किए जायेंगे । यहां उल्लेखनीय है कि देश में फ्लाई ऐश पावर प्लांट ज्यादा बिजली उत्पादन के लगने से बढ़ गयी है उससे प्रदूषण नियंत्रण करने के लिए फ्लाई ऐश का ज्यादा उपयोग हो ।  देवेन्द्र पाल सिंह चावला ने फ्लाई ऐश ब्रिक्स शासकीय कार्य में अनिवार्य है परन्तु ए सी ब्लाकस जो रेड केटिगिरी में आतें हैं उन रोक लगाने संबंधी अपील की साथ ही आम जन को भी पर्यावरण संरक्षण हित फ्लाई ऐश ब्रिक्स का उपयोग करने को प्रेरित करने की दिशा में क़दम उठाने की बात की आज क्रश सेंड पर चर्चा करते हुए कहा कि भारत में कई प्रदेशों में नदियों की रेत का उपयोग बंद हो गया है और कई प्रदेशों में सु्प्रीम कोर्ट ने नदियों से रेत निकालने पर रोक लगा दी है वहां क्रश सेंड का उपयोग हो रहा है