ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
अंतर्राष्ट्रीय चार पहिया वाहन चोर गिरोह का क्राइम ब्रांच ने किया पर्दाफाश, 48 घंटे के अंदर चोरी गई फोर्चुन बरामद
February 22, 2020 • Vijay sharma

भोपाल। शहर के लालघाटी क्षेत्र में रहने वाले श्संजय मिश्रा द्वारा थाना कोहेफिजा में रिपोर्ट दर्ज करायी थी, कि 19 फरवरी को मिसरोद स्थित राजपाल टोयोटा शोरूम से शाम साड़े सात बजे 1 सफेद रंग की नयी फार्च्यूनर कार कीमत 32 लाख रूपये की खरीद कर लालघाटी स्थित सहज संगम मल्टी गुफा मंदिर रोड़ लालघाटी स्थित मकान के सामने लाकर खड़ी की थी, कि इसी रात्रि सुबह करीब साढ़े तीन बजे अज्ञात चोर गाड़ी चुराकर ले गये। नयी एवं महंगी गाड़ी चोरी जाने की सूचना प्राप्त होते ही अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक भोपाल जोन आदर्श कटियार, उप पुलिस महानिरीक्षक शहर इरशाद वली द्वारा शोरूम से उठायी गयी नई कार को अतिषीघ्र ढूंढ निकालने के लिए भोपाल जिले के समस्त पुलिस अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए गए थे। 

   उक्त तारतम्य में क्राइम ब्रांच पुलिस द्वारा पूर्व में पकड़े गये कुख्यात वाहन चोरों के बारे में रिकॉर्ड के आधार पर तथा घटनास्थल के आस-पास के कैमरे शहर के मुख्य चौराहों पर लगे कैमरे आदि के माध्यम से चोरी गयी नई फॉच्युनर की तलाष के प्रयास किये जा रहे थे। इसी दौरान कल शाम करीब 5 बजे पिपलानी थाना प्रभारी श्री चैनसिंह रघुवंषी को सूचना प्राप्त हुई, कि 1 सफेद रंग की क्रेटा गाड़ी में 3 अलग-अलग राज्यों में चोरी करने वाले घूम रहे हैं की सूचना पर नगर पुलिस अधीक्षक गोविंदपुरा अमित सिंह साहब के निर्देशन पर थाना प्रभारी पिपलानी जेके रोड़ पर सउनि भारत सिंह मीणा, सउनि केपी सिंह, आर शेखर त्यागी, आर ब्रजेश को साथ लेकर तलाश किये तब हुण्डई शोरूम के सामने उक्त क्रेटा खड़ी दिखाई दी, कि पुलिस की उपस्थिति का आभास होते ही सफेद क्रेटा, जिसका नंबर एम पी 04 बीयू 9754 बड़ी तेजी से चलाकर भाग गया। इसी स्थान पर शोरूम के अंदर तलाष करने पर 2 संदिग्ध व्यक्ति मिले। नामपता पूछने पर संतोषप्रद जवाब नहीं दिये। तत्काल थाने पिपलानी लाया गया। 
थाना पिपलानी एवं क्राइम ब्रांच पुलिस द्वारा अपराधियों से नाम पते एवं चोरी गयी फॉर्च्युनर के बारे में पता लगाने के लिए काफी मेहनत करना पड़ी। आरोपी इतने कुख्यात एवं शरीर से इतने हष्ट पुष्ब्ट है। आरोपीगण से लगातार गहन पूछताछ एवं हिकमत अमली से पूछताछ करने पर 01 आरोपी द्वारा बताया गया, कि करीब 150 किलोमीटर दूर टोल बेरियर के किनारे से जाने वाले रास्ते के डेढ़-दो किलो मीटर अंदर एक फेक्ट्री की दीवार की आड़ में फॉर्च्युनर को छिपा दिया है। तत्काल पिपलानी पुलिस एवं क्राइम ब्रांच की टीम मौके पर रवाना हुयी और फॉर्च्युनर को बरामद कर लिया गया। गैंग का मुखिया लोकेष सफेद रंग की क्रेटा कार जिस पर समयानुसार पुलिस की गिरफ्त से बचने के लिए नंबर प्लेट बदल देता है। अब तक की जांच पर लोकेष द्वारा सफेद रंग की क्रेटा पर क्रमशः  mp 09 cw 5553 एवं mp 04 cw 9754  नंबर प्लेट से शेष वारदात को अंजाम दिया गया। रेकी करने के लिए उपरोक्त क्रेटा कार उपयोग की गयी।  गिरोह का मुखिया लोकेश काफी चतुर और चालाक है। इसने फॉर्च्युनर चोरी करते समय नीले रंग की अमेज कार जिसका नंबर उच 04 बल 6979 का उपयोग किया है तथा 2 अन्य साथियों को इस कार में बुलाकर फॉर्च्युनर चोरी की गयी है। आरोपी पहचान में न आये इसलिए अपने मुंह को कवर करके रखते हैं। चोरी की गयी कार के नंबर के स्थान पर दूसरा नंबर फिक्स कर देता है। किसी भी चारपहिया वाहन शोरूम के सामने अपनी कार खड़ी कर स्वयं को कार खरीदने वाले जैसा कपड़ों मोबाइल आदि से शो करने का प्रयास करते हैं, कि ये बड़े लोग हैं और फिर मैनेजर से बातचीत कर कार खरीद रहे ग्राहक पर नजर रखते है, कि वह ग्राहक कौन सी कार खरीद रहा है। फिर ग्राहक द्वारा खरीदी जाने वाली कार की चाबी किसी भी तरीके से प्राप्त कर लेते हैं तथा उसी कार की अपने पास वाली चाबी को उसी जगह रख देते हैं, ताकि मैनेजर ग्राहक को शक न हो कि चाबी मिस हुई है। इस तरह ओरिजनल चाबी प्राप्त कर कंपनी के बाहर अपनी कार में बैठकर ग्राहक द्वारा नई कार शोरूम से निकाले जाने तक इंतजार करते हैं और नई कार का पीछा कर खरीददार के घर का पता लगा लेते हैं। फिर रात में आकर वारदात को अंजाम देते हैं।
5. गैंग का मुखिया अपने अन्य एक्सपर्ट ड्रायवर/वाहन चोरों को अलग-अलग कारों में रखता है और देवास इंडस्ट्रीयल एरिया जहां फेक्ट्री से एक साथ हजारों वर्कर का आना जाना होता है। ऐसे स्थानों का स्वयं एवं अपने साथियों एवं कारों को छुपाकर रखता है। चोरी गयी फॉर्च्युनर जिसका नंबर उच 07 बी 4112 की जगह उच 09 ूइ 7604  की नंबर प्लेट लगा दी थी। दोनों आरोपियों से गहन पूछताछ की जा रही है तथा अन्य गिरोह के साथियों की तलाश पतासाजी के प्रयास किये जा रहे है।  आरोपियों  में रतन सिंह पिता बत्तू सिंह मीणा, उम्र- 44 साल, जिला जयपुर राजस्थान पतारसी की जा रही है,  ड्रायवरी करता है। देवेन्द्र सैनी पिता सूरजन सैनी, हिन्गनोन, जिला करोली, राजस्थान पतारसी की जा रही है, ड्रायवरी करता है।