ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
बस संचालकों की समसयाओं को लेकर इंटक ने सीएम को लिखा पत्र
June 3, 2020 • Admin • मध्यप्रदेश

भोपाल। प्रदेश में विगत तीन माह से कोरोना संक्रमण से बचाव को लेकर सरकार के द्वारा लॉक डाउन घोषर््िात किया गया है। जिसके चलते प्रदेश में यात्री वाहन चालक व संचालक आर्थिक तंगी से राहत देने के लिए मप्र ट्राँसपोर्ट वर्कर्स फेडरेशन इंटक के द्वारा मुख्यमंत्री को पत्र भेज कर मांग की गई है। मप्र ट्राँसपोर्ट वर्कर्स फेडरेशन इंटक महामंत्री प्रवेश मिश्रा ने बताया कि कोबिड 19 कोरोना महामारी से बचाव हेतु जारी लॉकडाउन से प्रदेश में 22 मार्च से सरकार के आदेशानुशार यात्री बसों एवं टेक्सियों, आटो का संचालन पूर्ण रुप से बन्द होने के कारण मालिक एवं मजदूर चालक, परिचालक, हेल्पर, मेकेनिक, एजेन्ट सभी भारी आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं उनका जीवन यापन मुश्किल हो गया है। इसलिये मप्र ट्रॉंसपोर्ट वर्कर्स फेडरेशन इंटक बस संचालकों के हितों में मांग करता है कि भाड़े पर मजदूरों के आवागमन के लिये लगातार संचालित बसों/वाहनों को छोड़कर जो बसें 22 मार्च से लगातार असंचालित हैं उनका अन्य राज्यों की भांति लॉकडाउन के समय तीन माह का स्पेयर एवं परमिट टैक्स तत्काल माफ किया जावे। म.प्र.शासन जनहित में शोसल डिस्टेन्स का पालन करते हुये बिना किराया बढ़ाए बस संचालन कराना चाहता है तो 50सीटर बस में तीन सीट पर दो और दो सीट पर एक यात्री अर्थात 80 प्रतिशत लोड फेक्टर और टेक्स माफी के साथ संचालन करने के आदेश दिये जावें। यदि 50 प्रतिशत यात्री से ही संचालन कराना है तो 50 प्रतिशत किराया वृद्धि के आदेश किये जावें। वहीं महामारी अभी समाप्त नहीं हुई है और एैसी हालत में बस, टेक्सी, आटो संचालन होता है तो तमाम सावधानियों के बावजूद भी जब राजभवन और मंत्रालय में स्टाफ कोरोना की चपेट में आ सकता है तो बस टेक्सी स्टाफ को तो भिन्न भिन्न यात्रियों के साथ भिन्न भिन्न स्थानों पर जाना है तो एैसी स्थिति में संकृमित होने की संभावना बनी रहेगी। इसलिये चालक, परिचालक, हेल्पर, मेकेनिक, एजेन्ट, बस स्टेण्ड कर्मचारियों को कोरोना वारियर्स घोषित किया जावे। चालक, परिचालक, हेल्पर, मेकेनिक,(बस टेक्सी आटो)आर्थिक सहायता प्रदान की जाय।