ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
भारत छो डो आन्दौलन की वर्षी पर मप्र इंटक सहित ट्रेड यूनियनों ने किया भारत बचाओ सत्यागृह
August 10, 2020 • Admin • मध्यप्रदेश


भोपाल। मप्र इंटक के सचिव व मप्र ट्राँसपोर्ट वर्कर्स फेडरेशन इंटक प्रदेश महासचिव प्रवेश मिश्रा प्रवक्ता विजयकुमार शर्मा ने प्रेस को जारी वयान में वताया कि इंटक के राष्ट्रीय अध्यक्ष सेन्ट्रल ट्रेडयूनियनों की समन्वय समिति के चेयर मेन डाँ.जी संजीवा रेड्डी के आव्हान पर म.प्र.इंटक के अध्यक्ष आर.डी.त्रपाठी की अध्यक्षता एवं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के मुख्य आतिथ्य में इंटक कार्यालय पिपलानी भोपाल में सेन्ट्रल ट्रेड यूनियनों नें भारत सरकार एवं प्रदेश सरकार की श्रमिक बिरोधी नीतियों के विरुद्ध भारत वचाओ सत्यागृह आन्दौलन किया गया। आन्दौलन में इंटक प्रदेश महासचिव रामराज तिवारी, सी.टू.महासचिव प्रमोद प्रधान, एटक महासचिव रुपसिंह चौहान, यूथ इंटकराष्ट्रीय महासचिव राहुल त्रिपाठी, प्रदेश अध्यक्ष मिथलेश तिवारी सहित अन्य सभी यूनियनों के पदाधिकारी कार्यकर्ता उपस्थित रहे।
पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के समक्ष इंटक प्रदेशाध्यक्ष आरडी त्रिपाठी ने सरकार की श्रम विरोधी नीतियों पर प्रकाश डालते हुये कहा कि देश के प्रथम प्रधानमंत्री पं.जवाहर लाल नेहरु, इंदिरा गांधी ने देश के विकास और मजदूर हितों की रक्षा के लिये जो नीति और श्रम कानून बनाये और बड़े बड़े सार्वजनिक एवं निजी उध्योग स्थापित किये उन्हे मोदी एवं शिवराज सरकार चन्द पूंजी पतियों को लाभ पहुँचाने ध्वस्त करती जा रही है। रेल, आयुध निर्माणी, भेल, एयर लाइंस, कोयला, परिवहन, बैंक, वीमा, एलआईसी, पोस्ट आफिस , वीएसएनएल, एनटीपीसी का पूर्ण निजीकरण करने पर आमादा है।जो देश हित में नहीं है।
श्री त्रित्पाठी ने कहा कि काँग्रेस सरकारों द्वारा मजदूरों के हितो की रक्षा के लिये बनाये गये श्रम कानूनों को समाप्त कर भाजपा मोदी सरकार चार लेवर कोड बना रही है वहीं मप्र की सरकार नें एमपीआईआर एक्ट समाप्त कर अन्य श्रम कानूनों भी खतरनाक परिवर्तन किये हैं जिससे उद्योंगों में श्रम विभाग का हस्तक्षेप प्राय:समाप्त हो गया है।उध्योगों में जबरन इस्तीफे लेकर, सेवा प्रथक कर अवैध छटनी की जा रही है।पुराने एवं कुशल अल्प वेतन भोगी श्रमिकों को नौकरी से अलग करने दो से तीन हजार कि.मी.दूर स्थानांतर किये जा रहे हैं।श्री त्रपाठी ने कहा कि सरकार अपनी घोषणानुशार मजदूरों को न रोजगार दे रही है न राहत राशि।परिवहन कर्मचारियों को न वेतन न भत्ता न राशन न राहत राशि।मजदूर भूखों मर रहे हैं।सभी ट्रेड यूनियने प्रदेश एवं देश मे विभिन्न चरणों में आन्दौलन चला रही है और काँग्रेस का प्रत्यक्ष सहयोग चाहती हैं।
मजदूरों के सत्यागृह में पधारे पूर्व मुख्यमंत्री एवं काँग्रेश के राष्ट्रीय महासचिव दिग्विजय सिंह ने कहा कि मजदूरों के हित में इंटक एवं सहयोगी संगनों द्वारा किये जा रहे आन्दौलन जो कि एक अभियान है का में और काँग्रेस पार्टी खुला समर्थन करते हैं।जहां भी इंटक के अध्यक्ष त्रिपाठी मुझे और काँग्रेस को याद करेंगे में वहां उपस्थित रहूँगा।भारत बचाओ सत्यागृह बहुत ही सराहनीय कदम है।आपके आन्दौलन मजदूरों को उनके हितलाभ दिलायें शुभकामनाएं देता हूँ।
सरकारें आपकी मांगे स्वीकार करें में भी ऐसा अनुरोध करुँगा।म.प्र.इंटक महासचिव रामराज तिवारी, एटक महासचिव रुप सिंह चौहान, सीटू महासचिव प्रमोद प्रधान सहित अन्य वक्ताओं ने भी विचार रखे।