ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
भोपाल ब्रेकिंग,,,, 2 पटवारी निकले कोरोना पॉजिटिव, साथी कर्मचारियों ने भी करवाई जांच
May 12, 2020 • Admin

राजधानी में सभी साथी कर्मचारियों को नहीं किया जा रहा होम क्वारेंंटाइन

भोपाल। जिले की बैरागढ़ वृत्त में पदस्थ दो पटवारी आज कोरोना पॉजिटिव निकले है इनकी जांच के लिए सेम्पल 9 मई को लिए गए थे। जिला प्रसाशन  में हड़कंप मच गया है। प्राप्त जानकारी अनुसार राजधानी में कोरोना की लड़ाई में वर्तमान में मुख्य भूमिका निभा रहे राजस्व अधिकारी व् कर्मचारी भी संक्रमित होना शुरू ही गए हैं आज बैरागढ़ वृत्त में पदस्थ दोनों पटवारी राजेंद्र मीणा व् अमित जायसवाल की कोरोना संक्रमण की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।जिन्हे आज चिरायु अस्पताल में कवारेंटीन के लिए भेजा जायेगा। इनके संक्रमण के बाद बैरागढ़ वृत्त के सभी राजस्व अधिकारियों व् कर्मचारियों के द्वारा कोरोना की जांच करवाई गई है।  इसके बाद से जिला प्रशासन में हड़कंप मच गया है क्योंकि  प्रदेश में सबसे अधिक आपदा के दौरान राजस्व विभाग से कार्य लिया जा रहा है।वहीँ सबसे बड़ा भय इस बात का है कि इनके परिवारों की जांच नहीं हुई है। यह दोनों पटवारी कार्य के दौरान वृत्त में पदस्थ चपरासी से लेकर अनुविभागीय अधिकारी तक के संपर्क में रहे हैं।  संभावना व्यक्त की जा रही है कि अभी बैरागढ़ वृत्त में आने वाली जांच रिपोर्ट में पोजिटिवों की संख्या बढ़ सकती है। 

फिर भी लिया जा रहा है कार्य
जब वरिष्ठ अधिकारियों को इन पटवारियों के कोरोना  पॉजिटिव होने की जानकारी मिल चुकी है उसके बाद भी इनके साथ कार्य करने वाले व् संपर्क में रहे सभी कर्मचारियों  से कार्य लिया जा रहा है। जबकि संपर्क में रहे सभी कर्मचारियों को  होम कवारेंटाइन  किया जाना चाहिए जो अभी तक नहीं किया गया ।

स्वास्थ्य कर्मियों ने किये हाथ खड़े
राजस्व विभाग के कर्मचारियों को कोरोना संक्रमित से बचाव के लिए प्रशासन के द्वारा जरुरी सामान उपलब्ध नहीं करवाया गया।वहीँ जबसे प्रदेश में स्वास्थ्य कर्मियों की कोरोना संक्रमण पॉजिटिव की संख्या अधिक हुई थी उसके बाद से ज्यादातर कार्य प्रशासन के कर्मियों से लिया जाने लगा। जिससे सबसे अधिक  कोरोना के संपर्क में इन्हें ही रहना पड़ रहा है। इन्हें कोरोना के सेम्पल भी करवाना है,सेम्पल लेकर भी इन्हें ही जाना है। रिपोर्ट भी इन्हें ही लाना है। ऐसा कहना गलत नहीं होगा की जो कार्य स्वास्थ्य विभाग का है वह इन राजस्व कर्मियों से लिया जा रहा है। इस स्थिति में यह मामले तो सामने आने ही थे।


राजस्व विभाग के सभी कर्मियों का होना चाहिए कोरोना टेस्ट
राजधानी ही नहीं प्रदेश के सभी राजस्व कर्मचारी व् अधिकारियों की सुरक्षा को देखते हुए कोरोना की जांच 3 दिन के अंदर नियमित की जाना चाहिए जिससे उनको कार्य के दौरान जल्द ही जानकारी मिलती रहे और वह अपने आपको सुरक्षित महसूस करें। अगर जिला प्रधासन कर्मचारियों की सुरक्षा को लेकर अभी जाग्रत नहीं हुआ तो आने वाले कुछ दिनों में कोरोना संक्रमितों के मामले अधिक आएंगे। वहीँ स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारियों को भी अपने कर्मचारियों से ही इस तरह के कार्य के लिए सख्त आदेशित करना चाहिए। क्योंकि जितनी सावधानी स्वास्थ्य कर्मी  रख सकते हैं शायद उतना किसी दूसरे विभाग के नहीं।