ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
भोपाल के भगवान सिंह ने की श्रीनगर से कारगिल वाॅर मेमोरियल की साहसिक साईकिल यात्रा
November 4, 2020 • Admin • राष्ट्रीय

तीन सौ किलो मीटर का कठिन सफर साईकिल से तीन दिन में पूरा किया

 

भोपाल । खेल और युवा कल्याण विभाग में कार्यरत भगवान सिंह कुशवाहा ने श्रीनगर से कारगिल वाॅर मेमोरियल तक की करीब तीन सौ किलो मीटर की कठिन साहसिक साईकिल यात्रा पूरी कर मध्य प्रदेश को गौरवान्वित किया है। उन्हांेने यह साईकिल यात्रा श्रीनगर से प्रारम्भ की और कारगिल वाॅर मेमोरियल तक आने-जाने का लगभग तीन सौ किलो मीटर का यह कठिन सफर तीन दिन में पूरा किया।

साईकिल यात्रा से लौटकर श्री भगवान सिंह ने आज संचालक खेल और युवा कल्याण श्री पवन कुमार जैन से सौजन्य भेंट की और उन्हें इस साहसिक यात्रा से अवगत कराया। खेल संचालक श्री जैन ने भगवान सिंह द्वारा की गई इस साहसिक यात्रा की सराहना करते हुए उन्हें बधाई और शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि 11 हजार फीट ऊंचे दुनिया के कठिनतम सड़क मार्ग जोझिला-दर्रा को साईकिल से चढ़ाई कर पूरा करने वाले भगवान सिंह ने साहसिक कार्य किया हैं।

हम फिट तो इंडिया फिट

भगवान सिंह ने बताया कि उन्होंने 30 अक्टूबर, 2020 को प्रातः 7 बजे श्रीनगर से साईकिल यात्रा प्रारंभ की। सोनमर्ग होते हुए वे जोझिला-दर्रा पहुंचे जहां वर्फबारी के चलते ट्रक चालकों के सहयोग से ट्रक के केबिन में रात्रि विश्राम किया। अगले दिन उन्होंने अपना सफर प्रारंभ किया और वे 31 अक्टूबर को रात्रि 8.30 बजे द्रास पहुंचकर रात्रि विश्राम किया। उन्होंने 1 नवम्बर, 2020 को कारगिल वाॅर मेमोरियल पहुंचकर शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की और वापस श्रीनगर के लिए प्रस्थान किया। भगवान सिंह ने शाम को 7 बजे श्रीनगर पहुंचकर अपनी साहसिक यात्रा का समापन किया।

भगवान सिंह ने इससे पूर्व भी साईकिल से कई साहसिक यात्राएं पूरी की है। वे मध्य प्रदेश के पहले पर्वतारोही है जिन्होंने वर्ष 2016 में दुनिया की सबसे ऊंचे पर्वत माउंट एवरेस्ट पर तिरंगा फहराया। उन्होंने वर्ष 2017 से लगातार तीन वर्ष तक दुनिया की सबसे ऊंची सड़क कुल्लू-मनाली- लेह-खारढूंगला की साईकिल द्वारा साहसिक यात्रा की है। उनका मानना है कि नियमित साईक्लिंग से स्वयं को फिट रखकर हम फिट रह सकते हैं। ‘‘हम फिट तो इंडिया फिट’’।