ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
छात्रों पर किराए को लेकर दबाव, एबीवीपी की कलेक्टर से छात्र हित में मांग
June 14, 2020 • Admin • मध्यप्रदेश

भोपाल।राजधानी में अध्ययन कर रहे प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों के विद्यार्थियों को लॉकडाउन में दोहरी मार का सामना करना पड़ रहा है। एक ओर कॉलेज एवं विश्वविद्यालयों द्वारा शिक्षण शुल्क जमा करने का दबाव बनाया जा रहा है तो वहीं दूसरी ओर हॉस्टल्स / मकान मालिकों द्वारा किराया जमा करने का दबाव डाला जा रहा है। इस अवधि में आर्थिक तंगी से जूझ रहे मध्यम एवं निर्धन वर्ग के छात्रों को इससे काफी समस्याओं का सामना करना पड़ रहा है। छात्रों की इस समस्या को लेकर एबीवीपी भोपाल के कार्यकर्ता शनिवार को भोपाल कलेक्टर तरुण पिथोड़े से मिले एवं ज्ञापन दिया जिसके बाद उन्होंने उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है। राजधानी भोपाल में बाहर से आकर अध्ययन करने वाले छात्रों की संख्या लाखों में है, ऐसे में अधिकांश छात्र छात्राएं हॉस्टल / किराये के मकानों में रहकर पढ़ाई करते हैं। इन छात्रों में एक वर्ग ऐसा भी है जिनका परिवार असंगठित क्षेत्र में रोजगार से जुड़ा हुआ है, इन परिवारों में पिछले तीन माह से लॉकडाउन के चलते जीविकोपार्जन में भी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इनसे संबंधित छात्रों पर किराये का बोझ बड़ी चिंता का विषय बन गया है। पिछले मार्च-अप्रैल-मई और अब जून माह के रेंट के लिये मकान मालिकों द्वारा लगातार दबाव बनाया जा रहा है जिसके चलते इन छात्रों ने एबीवीपी भोपाल से संपर्क कर किराया देने में असमर्थता जाहिर की। इन छात्रों की समस्याओं को लेकर एबीवीपी भोपाल के कार्यकर्ताओं ने कलेक्टर श्री तरूण पिथौड़े को ज्ञापन सौंपकर उचित कार्रवाई की मांग की।

एबीवीपी ने दिये सुझाव -

(1) जिनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं उनकी फीस माफ की जाए।

(2) विद्यार्थियों ने हॉस्टल की किसी भी सुविधा का लाभ नहीं लिया, अतः भोजन और बिजली शुल्क माफ किया जाय।

(3) जो विद्यार्थी रूम लेकर रह रहा है उनकी फीस में 50% संशोधन किया जाए।

(4) हॉस्टल संचालकों द्वारा छात्रों को किराया देने का का दबाव बनाया जा रहा है, उन्हें समझाइश दी जाए कि वह विद्यार्थी पर दबाव न बनाएं। वह जब भी हॉस्टल आयेगा। तब जमा कर देगा।