ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
दिल्ली दंगे: अब राख के ढेर और नाले उगल रहे शव, पुलिस मुखिया बदले गए
February 28, 2020 • Vijay sharma • राजनीति
नई दिल्ली। जीटीबी अस्पताल में आज एक और मौत हो गई। दिल्ली दंगों में मरने वालों की संख्या बढ़कर 39 हो गई है। उत्तर-पूर्वी दिल्ली में दंगे थमने के बाद अब धड़कनें ज्यादा बढ़ी हुई हैं। हिंसाग्रस्त इलाकों में अब राख के ढेर और नाले लाशें उगल रहे है। इसके चलते मृतकों की तादाद को लेकर भी आशंकाएं गहरा गई हैं। पुलिस शवों की तलाश में अब उत्तर-पूर्वी दिल्ली के उन नालों को खंगाल रही है, जो बंद हैं। दिल्ली हिंसा में अब तक 38 लोगों की मौत हुई है।  इस बीच दिल्ली पुलिस के मुखिया बदल दिए गए हैं। अब एसएन श्रीवास्तव दिल्ली पुलिस के नए कमिश्नर होंगे। 
सिग्नेचर ब्रिज से चलते समय वजीराबाद रोड की बाईं तरफ पडऩे वाले खजूरी खास, दयालपुर, करावल नगर और गोकलपुरी थाना इलाकों में उपद्रवियों की हिंसा की गवाही जली हुईं दुकान, मकान और गाडिय़ां चीख-चीखकर दे रही हैं। अभी तक शिव विहार की एक जली दुकान और एक गाड़ी से एक-एक लाश मिल चुकी है। इससे आशंका जताई जा रही है कि राख के ढेर में तब्दील हो चुके मकानों, दुकानों, गाडिय़ों के अलावा हिंसा प्रभावित बड़े नालों को खंगाला जाएगा तो कुछ और शव मिल सकते हैं। खजूरी पुश्ते से लेकर यूपी बॉर्डर तक, चांदबाग पुलिया से करावल नगर चौक तक, यहां से शिव विहार तिराहे तक, बृजपुरी रोड से वापस वजीराबाद रोड तक, शिव विहार समेत कई कॉलोनियों में सैकड़ों मकान, दुकान और गाडिय़ां जलाई गई हैं। अभी इनकी खाक को छाना नहीं गया है। शिव विहार की एक दुकान से वहां काम करने वाले दिलबर नेगी की बॉडी गुरुवार को बरामद हुई है। इसी तरह सोनिया विहार के ग्रीन गार्डन में एक जली हुई कार के पास बॉडी मिली है। अभी बॉडी की पहचान नहीं हो पाई है।
नालों से निकल रहे हैं शव
सिंचाई और बाढ़ नियंत्रण विभाग के कर्मचारी अनिल त्यागी ने बताया कि गुरुवार को नाले के कचरे में एक शव तैरता मिला। उन्होंने कहा, 'जैसे ही शव मिलने की खबर मिली, यहां भीड़ जुटनी शुरू हो गई। लेकिन इस इलाके में कर्फ्यू लगा है, तो तुरंत फोर्स पहुंची और लोगों को वहां से हटा दिया।
शवों की पहचान नहीं
दोनों शव को गुरुवार सुबह 11 बजे हटा लिया गया था। हालांकि उनकी पहचान नहीं हो पाई थी। जब हमारे सहयोगी अखबर टाइम्स ऑफ इंडिया की टीम दोपहर 2.30 बजे इस इलाके में पहुंची तो कॉलोनियों में फ्लैग मार्च किया जा रहा था। एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी लाउड स्पीकर पर कह रहे थे, धारा 144 लगी हुई है और देखते ही गोली मारने के आदेश हैं। लोगों से आग्रह है कि वे अपने घरों में रहें।' भागीरथी विहार में रहने वाले 62 वर्षीय रंजीत कुमार ने दावा किया नाले से मिला मृतक इस इलाके का रहने वाला नहीं था और हो सकता है कि उसका शव मुस्तफाबाद से बहते हुए नाले में यहां तक आया हो।
शवों की तलाश में नालों में खोज
निगम कर्मचारी और पुलिस और शवों की तलाश में कूड़ा से बजबजाते नालों में खोज कर रहे हैं। इस बारे में सिंचाई और बाढ़ विभाग, पूर्वी दिल्ली नगर निगम और पुलिस के बीच बैठक भी हुई है। श्वष्ठरूष्ट कमिश्नर डॉ. दिलराज कौर और प्रवक्ता अरुण कुमार ने बाद में बताया कि निगम पुलिस को शवों की खोज में हर संभव मदद देगी।
हर जगह खोजा, अस्पताल में शव मिला
चांद बाग के नाले से मुशर्रफ का शव मिला था। मृतक की बहन फरहीन ने कहा, 'हम हर जगह गए लेकिन उसका पता नहीं चल पाया। हमारे एक जानने वाले ने बताया कि मुशर्रफ (35) को नाले में फेंक दिया गया है। जब हम उसे नाले में नहीं खोज पाए, तो हम गुरुवार सुबह जीटीबी अस्पताल गए। वहां हमें उसका शव मिला।
श्रीवास्तव बनाए गए दिल्ली के नए पुलिस कमिश्नर
दिल्ली में हिंसा के बाद पुलिस की कमान बदल गई है। चार दिन पहले ही दिल्ली के स्पेशल पुलिस कमिश्नर (लॉ एंड ऑर्डर) बनाए गए एसएन श्रीवास्तव को अब नया पुलिस कमिश्नर नियुक्त किया गया है। दिल्ली के मौजूदा पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक का कार्यकाल 31 जनवरी को खत्म हो रहा था, लेकिन उन्हें एक महीने का एक्सटेंशन दिया गया था। सीआरपीएफ के तेज-तर्रार अफसर दिल्ली में में कानून व्यवस्था की जिम्मेदारी सौंपे जाने से पहले डीजी ट्रेनिंग थे। दो साल पहले तक जम्मू-कश्मीर के स्पेशल डीजी रहे एसएन श्रीवास्तव को घाटी में ऑपरेशन ऑल आउट के दौरान आर्मी के साथ काम करने के कौशल के लिए जाना जाता है। एसएन श्रीवास्तव का कार्यकाल 30 जून 2021 तक है और यह चर्चा थी कि आने वाले वक्त में उन्हें दिल्ली का पुलिस कमिश्नर भी बनाया जा सकता है। दिल्ली पुलिस की ऐंटी टेरर सेल के विशेष आयुक्त रहे श्रीवास्तव को पूर्व में सीआरपीएफ के वेस्टर्न जोन का एडीजी बनाया गया था। इस दौरान श्रीवास्तव के नेतृत्व में ही सीआरपीएफ और भारतीय सेना ने जम्मू-कश्मीर में कई ऐंटी टेरर ऑपरेशन चलाए थे। इनमें ऑपरेशन ऑल आउट जैसे बड़े ऑपरेशन भी शामिल थे।