ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
दिल्ली हिंसा: गगन विहार में नाले से मिलीं 2 और लाशें, कुल मृतक संख्या 35 हुई भारी संख्या में पुलिसबल मौजूद
February 28, 2020 • Vijay sharma
नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली में तीन दिन से जारी हिंसा भले ही थम गई हो, लेकिन अभी भी डर का माहौल बना हुआ है। गुरुवार को दिल्ली हिंसा में मरने वालों का आंकड़ा बढ़ गया और अबतक ये संख्या 35 तक हो गई है। पुलिस और सुरक्षाबल लगातार हिंसा प्रभावित इलाकों में फ्लैग मार्च निकाल रही है और लोगों से शांति बनाए रखने की अपील कर रही है। 
हाई कोर्ट की फटकार के बाद केंद्र और राज्य सरकार एक्शन में आई है, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर दिल्ली की सड़कों पर उतर लोगों से बात की और उन्हें भरोसा दिलाया। गगन विहार इलाके में गुरुवार को पुलिस को दो शव मिले। दिल्ली पुलिस को जोहरीपुर एक्सटेंशन के पास नाले में ये दो लाशें मिली हैं। इसी के साथ दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 35 हो गई हैं।
छत पर पेट्रोल बम का जखीरा, ईंटें, पार्षद ताहिर हुसैन फंसे 
 नॉर्थ ईस्ट दिल्ली के खजूरी में हिंसा भड़काने में आप पार्षद ताहिर हुसैन का हाथ था? अब उनके घर से आई कुछ तस्वीरों से शक की सूई और गहरा गई है। ताहिर हुसैन के घर से गुलेल, पेट्रोल बम और कट्टों और ट्रे में भरे मोटे पत्थर बरामद किए गए हैं। इसी घर का एक विडियो भी पहले सामने आया था, जिसमें वहां से लगातार पत्थर और पेट्रोल बम चल रहे थे। आईबी स्टाफ अंकित शर्मा के मर्डर के पीछे भी परिवार इस घर की छत पर मौजूद लोगों को जिम्मेदार ठहरा रहा है। हालांकि, आप पार्षद ताहिर खुद को बेकसूर बता रहे हैं। आम आदमी पार्टी ताहिर हुसैन के बचाव में उतरी है और इस मामले में निष्पक्ष जांच की मांग कर रही है। अब माहौल शांत होने के बाद जब कुछ मीडियाकर्मी उस घर की छतपर पहुंचे तो नजारा दिखा। घर की छत पर पत्थर ही पत्थर दिखे। वहां कुछ पत्थरों का चूरा भी था, जैसे वहां मोटे पत्थरों को कूटकर छोटा किया गया हो। साथ ही वहीं एक बड़ी सी गुलेल भी पड़ी थी। इसके अलावा कोल्ड ड्रिंक की बोतलों में पट्रोल भरा मिला है, जिनपर कपड़ा लगाकर उनसे बम बनाने की कोशिश हुई है। इसके अलावा कई कट्टे, बोरियां मिलीं, जिनमें से कुछ में पत्थर भी थे।
ताहिर का जवाब- किसने फेंके बम, पता नहीं
इस मामले में ताहिर अबतक खुद को बेकसूर बता रहे हैं। उनका कहना है कि हिंसा के वक्त वह घर में मौजूद ही नहीं थे। पुलिस ने उन्हें पहले ही वहां से निकाल दिया था। वह बोले कि मेरे घर से कौन बम फेंक रहा था पता नहीं। उन्होंने यह भी दावा किया कि सामने वाले घरों से भी उनके घर की तरफ पत्थर चल रहे थे।