ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
एम्स नर्सिंग आफिसर एनएसयूआई के साथ डायरेक्टर की शिकायत महिला आयोग करने पहुँची
August 19, 2020 • Admin • मध्यप्रदेश

भोपाल।  एम्स निदेशक सरमन सिंह  के द्वारा महिलाओं एवं कोरोना योद्धाओ का सार्वजनिक कार्यक्रम में अपमानित करने के बाद एनएसयूआई मेडिकल विंग ने महिला नर्सिंग आफिसर के साथ महिला आयोग पहुँच कर शिकायत दर्ज करवाई। 
एनएसयूआई मेडिकल विंग के प्रदेश समन्वयक रवि परमार ने कहा कि जहा कोरोना योध्दाओ को सम्मान मिलना चाहिए लेकिन एम्स भोपाल के निदेशक ने स्वतंत्रता दिवस पर कोरोना योध्दाओ ओर नारियों को समाज मे शर्मसार करने वाला अपमानजनक उद्बोधन दिया जिससे सभी नर्सिंग आफिसर और स्टाफ में आक्रोश है । आउट सोर्सिग नर्सिंग आफिसरो ने बताया कि जब हम कोरोना जैसी भयानक महामारी से लड़ रहे है वही भोपाल एम्स संस्थान के निदेशक द्वारा 15 अगस्त को अपने भाषण में जहाँ कोविड में काम करने वाले योद्धाओ का अपमान किया वही ऐसी तामाम महिलाओ का अपमान किया जो अपना और अपने परिवार की सुरक्षा की परवाह किया बिना कोरोना हॉस्पिटल में काम कर रही है।
रवि परमार का कहना है कि जहा हमारे देश के राष्ट्रपति  एवं प्रधानमंत्री 15 अगस्त को लाल किले से नारी शक्ति  एवं कोरोना योद्धाओ का सम्मान किया, पूर्ण कार्यक्रम को इन सबके नाम समर्पित किया वही एम्स के निदेशक द्वारा सार्वजनिक रूप से कामकाजी महिलाओं व महिला कर्मचारीयो का अपमान किया।  एम्स में 102 आउट सोर्सिग नर्सिंग ऑफिसर को कोरोना महामारी में नॉकरी से निकाल दिया जिससे सभी को आर्थिक एवं मानसिक परेशानी का सामना करना पड़ेगा । परमार ने कहा कि 102 में से तो लगभग 70 से ज्यादा महिलाएं नर्सिंग  अधिकारी है एम्स निदेशक के अनुसार महिला कर्मचारी 6 महीने बच्चे को दूध पिलाने के बहाने घर बेठी रहती है। सरमन सिंह पहले ये बताये  कोई बिना मेटरनिटी लिव के बिना वेतन के मजबूरी में घर बैठते है निदेशक ने तो पूरी संज्ञा ही बदल दी । नर्सिंग आफिसर ने कहा हम  कोरोना काल के समय नॉकरी से निकाल तो दिया कोरोना में काम करते हुए हमें सो काल्ड कोरोना योद्धा बोलकर अपमानित किंया और साथ मे घटिया बाते महिला कर्मचारियों के लिए बोली जो कि अमानवीय है माफी लायक भी नही है पहले हमें एम्स में 6 माह के वेतन के साथ मेटरनिटी लीव मिलती थी लेकिन इन निदेशक महोदय ने सब बंद कर दिया प्रधानमंत्री 6 माह के वेतन के साथ मेटरनिटी की बात कर रहे है वही इसके उलट एम्स निदेशक तो नॉकरी से ही निकाल रहा है
महिला नर्सिंग ऑफिसर ने एफ आई आर दर्ज कर तत्काल कार्यवाही की मांग की आयोग ने आश्वासन देते हुए जल्द कार्यवाही करने को कहा।