ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
हमीदिया मरीज के इलाज में लापरवाही, कमिश्नर ने मांगी 3 दिन में जांच रिपोर्ट
August 9, 2020 • Admin


मृतिका के पिता ने लिखित में दिया दुखी होकर  किया वीडियो वायरल

अधीक्षक ने हमीदिया अस्पताल में मृत्यु और उपचार के सम्बंध में स्थिति स्पष्ट की

भोपाल । संयुक्त संचालक एवं अधीक्षक, हमीदिया चिकित्सालय डॉ आइ डी चौरसिया ने बताया है कि मरीज सुहानी गहलोत पिता नरेंद्र गहलोत 16 वर्षीय को अत्यंत गंभीर अवस्था में अस्पताल लाया गया था । जहाँ उपचार के दौरान उसकी मृत्यु हो गई। सुहानी और उनकी बहन पायल को  6 अगस्त  सुबह 11:33 बजे गम्भीर स्थिति में इलाज हेतु भर्ती किया गया था। उन्होंने वस्तुस्थिति से आयुक्त स्वास्थ्य को भी अवगत कराया है।
डॉ चौरसिया ने बताया कि उन्होंने सम्पूर्ण मामले की जांच की है और बेटियों के पिता तथा उपचार करने वाले चिकित्सक और उनकी टीम से  भी जानकारी ली है। जांच में पाया गया कि चिकित्सकों द्वारा मरीज का पूरा सावधानीपूर्वक इलाज किया गया लेकिन गंभीर बीमारी के कारण उसी दिन शाम 8 बजे मरीज की मृत्यु हो गई । मरीज की हालत एवं इलाज का पूर्ण विवरण डॉ मंजुला गुप्ता मेडिसिन विभाग  द्वारा प्रस्तुत किया गया है।
      नरेंद्र गहलोत द्वारा अपनी दोनों बेटी सुहानी गहलोत और पायल गहलोत को इलाज हेतु हमीदिया अस्पताल में भर्ती किया गया था। दोनों मरीजों के दस्तावेजों के अनुसार इलाज में कोई लापरवाही नहीं बरती गई है । मरीज सुहानी गहलोत की हालत अत्यंत गंभीर थी इसलिए चिकित्सक उनकी जान बचाने में असमर्थ रहे । वहीं दूसरी मरीज पायल गहलोत की स्थिति संतोषजनक है।
 नरेंद्र गहलोत ने अपने लिखित जबाब में कहा है कि काफी दुखी होने के कारण उन्होंने वायरल वीडियो में  डॉक्टरों की लापरवाही की बात कही थी,यह बात झूठी है । डॉ चौरसिया ने कहा है कि चिकित्सकों द्वारा भर्ती मरीजों का पूरी सावधानी और प्रोटोकॉल अनुसार इलाज किया जाता है।

सम्भाग आयुक्त ने जांच कमेटी बनाई-3 दिन में मांगी रिपोर्ट 
सम्भाग आयुक्त भोपाल  कवीन्द्र कियावत ने हमीदिया अस्पताल में दो बहनों के उपचार की वस्तुस्थिति और कथित लापरवाही सहित सम्पूर्ण परिस्थितियों की जांच करने के लिए 3 सदस्यीय समिति का गठन किया है।
समिति में गांधी मेडिकल कालेज के डीन डॉ अरुणा कुमार, सर्जिकल विभागाध्यक्ष डॉ अरविंद राय और हमीदिया अस्पताल के अधीक्षक डा. आई डी चौरसिया को शामिल किया है।समिति को 3 दिवस में अपनी जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करने के आदेश दिए गए है।