ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
जल संसाधन मंत्री ने बाढ़ राहत कार्यों के लिए कमर कसी,अधिकारियों से सभी डेमो की सुरक्षा व्यवस्था हो पुख्ता
August 23, 2020 • Admin • मध्यप्रदेश

इंदौर। जिले में लगातार हो रही बारिश के कारण जन सामान्य जीवन स्वस्थ हो गया है कई क्षेत्रों में लगातार पानी भरने से लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है इसको देखते हुए जल संसाधन मछुआ कल्याण एवं मत्स्य विकास विभाग के मंत्री श्री तुलसीराम सिलावट ने बाढ़ राहत कार्यों के लिए मोर्चा संभाला हुआ है वह लगातार क्षेत्रों में भ्रमण कर रहे हैं और खुद ही पानी में उतर कर लोगों की मदद के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं । इंदौर के कई क्षेत्रों में पानी भरा हुआ है और लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा था जिससे मंत्री ने अपने दल बल के साथ उतर कर लोगों की मदद के लिए लगातार कार्य कर रहे हैं श्री सिलावट ने जिला प्रशासन के साथ बैठक कर लगातार लोगों को पीने का पानी, भोजन आदि की  उचित व्यवस्था करने के लिए बोला है इसके साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में लगातार हो रही बारिश से जनजीवन प्रभावित हुआ है घर में पानी घुसने की समस्याओं का सामना करना पड़ा है इसको देखते हुए मंत्री ने संबंधित अधिकारियों और लोगों को मदद के लिए आगे आने को कहा है स्वयंसेवी संस्थाओं को भोजन के पैकेट पीने का पानी उपलब्ध कराने के लिए भी आग्रह किया है।  
 जल संसाधन मंत्री श्री सिलावट जल संसाधन विभाग के  ईएनसी श्री एस एन मिश्रा और संभागीय अधिकारियों के साथ अन्य सभी अधिकारियों से फोन पर चर्चा कर निर्देशित किया है कि विभाग के सभी डैम ,तलाब पर पानी की आवक लगातार बढ़ रही है इससे आसपास के क्षेत्रों में पानी का जलस्तर बढ़ रहा है इन सब से निपटने के लिए संबंधित जिला प्रशासन से निरन्तर संपर्क में रहें।
 पानी छोड़ने के पूर्व इसकी सूचना जिला प्रशासन और स्थानीय प्रशासन को उपलब्ध कराएं जिससे लोगों को उन जगहों से हटाया जा सके । नहर और डैम की सुरक्षा की व्यवस्था भी सुनिश्चित करते रहे, साथ ही देखें की  कहीं भी कोई समस्या नहीं हो,  लगातार पानी की बढ़ोतरी के कारण डैम की सुरक्षा व्यवस्था में किसी प्रकार की लापरवाही ना हो जल संसाधन मंत्री ने भी सभी अधिकारियों , जिला प्रशासन के अधिकारियों से भी लगातार संवाद स्थापित किया हुआ है। बाण सागर ,गांधी सागर, इंदिरा सागर, बारना, हलाली, तवा, बरगी, कालिया सोत, केरवा, कोलार, आदि और अन्य जल सरंचनाओ की सुरक्षा पुख्ता करने के निर्देश दिए है ।  बेक वाटर क्षेत्रों में जलभराव से  सुरक्षा व्यवस्था के लिए लगातार निर्देशित किया गया है और संबंधित अधिकारियों को फील्ड में रहने और लगातार निरीक्षण करने के निर्देश दिए गए