ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
जिसकी शिकायत थी, उसे बिना मीटिंग, बिना प्रस्ताव के दिया कंसल्टेंसी कार्य
February 5, 2020 • Vijay sharma

भोपाल। हाउसिंग बोर्ड में   जिस कंसल्टेंसी कंपनी का विरोध कर्मचारी कर रहे थे जिसकी शिकायत कर्मचारी पहले ही कर चुके उसे ही कर करने व सलाकार बना दिया जिससे अब कर्मचारियों का विरोध अदजीकरियों के खिलाफ है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी अनुसार कर्मचारी संघ ने 2 वर्ष पूर्व भी इस यूनिट का विरोध किया था इसके बाबजूद दिल्ली के दबाव में या गुजरात प्रेम के बसीभूत तत्कालीन आयुक्त श्री नितेश व्यास  ने गुजरात मूल की उक्त साईं कंसल्टेंसी लिमिटेड कंपनी को बिना बोर्ड मीटिंग की स्वीकृति के ही स्वयं के हितों को साधते हुए कॉन्ट्रैक्ट दे दिया गया था अब पुनः कोई सेटिंग करते हुए यह निविदा निकली गई है। सांई कंसल्टेंसी ने कुछ तथाकथित अधिकारियों से मिलीभगत कर प्रोजेक्ट स्वीकृति, फील्ड में पदस्थ इंजीनियर्स को क्वालिटी बिगाड़ने आदि की धौंस देकर लाखो रुपये कबाड़े हैं, कर्मचारियों के संगठन ने इस संबंध में प्रशासन को कई बार पत्र  लिखा है कि इस कम्पनी की गहन जाँच कराई जानी चाहिए तो अनेक चेहरे बेनकाब हो सकेंगे लेकिन ऊपर के सभी बड़े अफसर इसमे लिप्त लगते हैं  इसलिए कोई जाँच नही करवाई जा रही है जबकि उक्त कम्पनी के पास कोई योग्य इंजीनियर नही होते हुए भी यह कम्पनी धड़ल्ले से मण्डल को लूट रही है यह बड़ा भ्रस्टाचार है ।अब पुनः वर्तमान प्रशासन द्वारा जानबूझकर अपने किसी चहेते को उपकृत करने के उद्देश्य से यह टेंडर जारी किया गया है ।महोदय जी हाउसिंग बोर्ड की वर्ष 1972 स्थापना से हमारे योग्य एवं दक्ष्य इंजीनियर साथियों ने बेतवा अपार्टमेंट ताप्ती, जी.टी.बी काम्प्लेक्स,प्लेटिनम प्लाजा, टीटी नगर एवं आई टी पार्क ,भोपाल, ग्वालियर में राजीव प्लाजा सहित अन्य बड़े काम्प्लेक्स एवं कालोनी निर्माण, जबलपुर में आई.टी पार्क,रीवा इंदौर में आई टी पार्क सहित अनेक शहरों में अनेक कार्य हमारे इंजीनियरों ने ही क्वालिटी पूर्ण कार्य किये हैं वर्ष 2002 में गुजरात के भुज में भीषण भूकम्प आया था जिसमें बहुत बड़ी  जन,धन एवं भवनों को क्षति पँहुची थी उस समय मध्यप्रदेश हाउसिंग बोर्ड के अयोध्या सर्किल भोपाल ने टूटे हुये मकानों को भूकंप निरोधी भवनों का पुनर्निर्माण किया गया तब हमारे तकनीकी स्टाफ ने उक्त कार्य पूर्ण दक्षता से किया था जिसके फलस्वरूप भारत शासन से ISO सर्टिफिकेट मिला हुआ है इसी प्रकार  वर्ष 2002-03 में तत्कालीन मुख्यमंत्री श्दिग्विजयसिंह के निर्देशानुसार  पंढरपुर महाराष्ट्र में भगवान विठ्ठल रुक्मिणी मन्दिर का निर्माण भी समयसीमा में पूर्ण दक्षयता से किया हुआ  है ऐसे अनेक निर्माण एवं बड़ी बड़ी *कालोनियों का गुंबत्तापूर्ण निर्माण किया है तब कोई कंसल्टिंग कंपनी नही थी* । कर्मचारी संघ उक्त टेंडर का विरोध करता है इस प्रकार की किसी कंसल्टेंसी की कोई आवश्यकता नही है क्योकि हमारे हाउसिंग बोर्ड में योग्य एवं दक्ष्य तकनीकी स्टाफ मौजूद है । *यह तो हमारे वर्षो से गुंबत्तापूर्ण कार्य कर रहे तकनीकी स्टाफ के ऊपर एवं उनकी योग्यता पर प्रश्नचिन्ह है ?  जो वर्षो से मेहनत कर मण्डल को ऊचाईयों पर लेकर आये हैं ,यह सिर्फ कमीशन का खेल ही नजर आ रहा है यह निन्दनीय है ।*कर्मचारी संघ शीघ्र ही  मंन्त्री एवं प्रमुख सचिव नगरीय प्रशासन एवं आवास को पत्र लिखकर  इस प्रकार की कंसल्टेंसी एजेंसी नियुक्त करने पर तुरन्त रोक की माँग करेंगे  एवं  मण्डल को हो रही हानि को रोकने हेतु निवेदन किया जायेगा। यदि यह टेंडर नहीं रोका जाएगा तो हाउसिंग बोर्ड कर्मचारी संघ विधि सम्मत कार्यवाही के लिए न्यायालय की शरण मे जाने को मजबूर होगा। और आंदोलन भी किया जायेगा जिसकी सारी जिम्मेदारी मण्डल प्रशासन की होगी।