ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
कारदेखो ने फ्रेंचाइजी मॉडल के जरिए की यूज्ड कारें बेचने की शुरूआत, जयपुर में खोला पहला कारदेखो गाड़ी ट्रस्टमार्क स्टोर
August 19, 2020 • Admin • राष्ट्रीय

कंपनी की यूज्ड कार बिजनेस में फाइनेंशियल ईयर 2020-21 तक 20 मिलियन डॉलर इंवेस्ट करने की है योजना
फाइनेंशियल ईयर 2020-21 में कंपनी की 50 एक्सक्लूज़िव फ्रेंचाइज़ी ट्रस्टमार्क स्टोर और 200 फ्रेंचाइज़ी रिटेल लोकेशन तथा 2022 तक 1000 से ज्यादा फ्रेंचाइज़ी रिटेल लोकेशन खोलने की है योजना 
ट्रस्टमार्क के साथ आने वाली सभी कारों पर मिलेगी 6 महीने/7500 किलोमीटर की इंजन और ट्रांसमिशन की वॉरन्टी

नई दिल्ली।: भारत की अग्रणी फुल स्टैक ऑटो टेक कंपनी कारदेखो ने सर्टिफाइड यूज़्ड कार बेचने के लिए अपना पहला फ्रेंचाइजी स्टोर जयपुर में लॉन्च किया है, जिसे कारदेखो गाड़ी ट्रस्टमार्क स्टोर नाम से शुरू किया गया है। इस तरह पर्सनल मोबिलिटी के क्षेत्र में देश की अग्रणी कंपनी बनने के लिए कारदेखो ने एक और नया आयाम स्थापित किया है। पूरे भारत में कारदेखो के 50 से अधिक  कारदेखो गाड़ी स्टोर मौजूद हैं जहां ग्राहक अपनी यूज़्ड कार बेच सकते हैं। 

कारदेखो ट्रस्टमार्क स्टोर्स पर ग्राहकों को वैसा ही अनुभव मिलेगा जैसा कि किसी नई कार को खरीदते वक्त ग्राहकों को संबंधित शोरूम पर मिलता है। 
कंपनी की योजना यूज्ड कार सेंगमेंट में फाइनेंशियल ईयर 2020-21 में 20 मिलियन डॉलर का निवेश करने और इस दौरान देश में 50 एक्सक्लूजिव फ्रेंचाइजी कारदेखो गाड़ी ट्रस्टमार्क स्टोर तथा 200 फ्रेंचाइज़ी रिटेल लोकेशन खोलने की है, जहां ट्रस्टमार्क कारों की एक लंबी रेंज मिलेगी। 2020 तक कंपनी की योजना इन फ्रेंचाइजी रिटेल लोकेशन की संख्या 1000 से ज्यादा तक पहुंचाने की है। आने वाले कुछ समय में दिल्ली एनसीआर और बेंगलुरु में भी ये स्टोर्स खोले जाएंगे। 

इन एक्सक्लूज़िव स्टोर्स के ज़रिए बेची जाने वाली सभी गाड़ियां ट्रस्टमार्क कारें होंगी, जिनके साथ 6 महीने या 7500 किलोमीटर की इंजन और ट्रांसमिशन वॉरन्टी मिलेगी। वहीं ग्राहकों को 7 दिन की शील्ड का लाभ भी दिया जाएगा। कार खरीदने के बाद 7 दिन तक के लिए मान्य इस शील्ड प्रोग्राम में यदि ग्राहकों को कार के मैकेनिकल और इलेक्ट्रिकल पार्ट में कोई समस्या आती है जो इवेल्यूएशन का हिस्सा नहीं था, उसे बिना किसी शुल्क के बदला या रिपेयर किया जाएगा। खास बात ये है कि यह सुविधा भारत में अब तक कहीं भी शुरू नहीं की गई है। कंपनी द्वारा बेची जाने वाली कारों की सही ढंग से जांच होगी जहां ओनरशिप, चालान हिस्ट्री, ओडोमीटर टैंपरिंग, एक्सिडेंटल हिस्ट्री, कार की उम्र के साथ बुनियादी बातों को सही ढंग से परखा जाएगा। आमतौर पर इस तरह की जांच पड़ताल यूज़्ड कार खरीदने वाले ग्राहकों को खुद ही करनी पड़ती है, मगर कारदेखो के ज़रिए यूज़्ड कार खरीदने वाले ग्राहकों को इस तरह की चिंता करने की कोई ज़रूरत नहीं पड़ेगी और उन्हें आसान और सुरक्षित तरीके से कार खरीदने का अनुभव मिलेगा। 

इसके अलावा ट्रस्टमार्क स्टोर्स पर एक ही छत के नीचे स्पॉट लोन और इंश्योरेंस के साथ आरसी ट्रांसफर की सुविधा भी मुहैया कराई जाएगी। साथ ही, हर ट्रस्टमार्क कार की इवेल्यूएशन रिपोर्ट वेबसाइट पर उपलब्ध होगी जिसे कोई भी ग्राहक देख सकता है और उसपर कार खरीदने से पहले विचार विमर्श कर सकता है। 

कारदेखो गाड़ी ट्रस्टमार्क स्टोर के लॉन्च के अवसर पर कंपनी के को-फाउंडर और सीईओ अमित जैन ने कहा कि “पिछले कुछ समय से यूज़्ड कारों की डिमांड काफी बढ़ी है और आपदा के इस दौर ने पर्सनल व्हीकल की जरूरत को बढ़ा दिया है। फाइनेंशियल ईयर 2020 में हर नई कार की खरीद की तुलना में उससे 1.3 गुना ज्यादा यूज्ड कार खरीदी गई। इस फाइनेंशियल ईयर हम ये आकंड़ा 1.8 गुना बढ़ते हुए देख सकते हैं जहां ग्राहक कम कीमत में आने वाली पर्सनल मोबिलिटी को तवज्जों देंगे। ट्रस्टमार्क कारें बेचने के लिए हम फ्रेंचाइज़ी बिजनेस मॉडल में प्रवेश कर रहे हैं जहां ग्राहकों को पारदर्शी तरीके से और बिना किसी परेशानी के पर्सनल मोबिलिटी सॉल्यूशन प्राप्त होगा।” 

कंपनी ने हाल ही में लॉकडाउन पूरी तरह से हटने के बाद यूज़्ड कारों को लेकर ग्राहक के दृष्टिकोण पर एक रिपोर्ट जारी की है और पूरे देश में इस तरह के वाहनों की खोज करने वाले इच्छुक ग्राहकों की तादाद में भारी वृद्धि देखी गई है। 

कारदेखो ग्रुप के बारे में:
कारदेखो ग्रुप की शुरुआत 2008 में हुई थी। यह भारत की अग्रणी ऑटो टेक कंपनियों में से एक है। इसका मुख्यालय जयपुर में है। कारदेखो ग्रुप ने उपभोक्ताओं के लिए पूरे भारतीय ऑटो ईकोसिस्टम को सफलतापूर्वक डिजिटल कर दिया है और भारत की सबसे बड़ी ऑटो टेक कंपनी बन गई है। कंपनी ने भारत के अलावा इंडोनेशिया और फिलीपींस तक भी अपनी पहुंच बढ़ा ली है। कारदेखो ग्रुप गाड़ी.कॉम, ज़िगव्हील्स.कॉम, बाइकदेखो.कॉम, पावरड्रिफ्ट.कॉम और इंश्योरेंसदेखो.कॉम जैसे प्रमुख वेबसाइट का संचालन करता है। कंपनी का हाल ही में लॉन्च हुआ ऑनलाइन इंश्योरेंस पोर्टल इंश्योरेंसदेखो.कॉम मोटर और स्वास्थ्य बीमा क्षेत्र में अपनी सेवाएं प्रदान करता है। वहीं ग्रुप ने गाड़ी स्टोर्स की भी शुरूआत की है जो यूज़्ड कार बेचने के लिए वन स्टॉप डेस्टिनेशन बन गया है। इन सबके साथ ही ग्रुप ने टायरदेखो.कॉम और ट्रक्सदेखो.कॉम जैसे कुछ विशेष पोर्टल भी शुरू किए हैं। 11 सालों की इस अवधि में कंपनी 2 मिलियन से अधिक यू-ट्यूब सब्सक्राइबर्स के साथ ऑटोमोटिव वीडियो कंटेंट और 41 मिलियन मासिक विज़िटर के साथ ऑटो सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सबसे आगे है। 2016 में कंपनी ने ‘ओटो’ ब्रांड नाम से अंतरराष्ट्रीय बाज़ार में कदम रखा था। ‘ओटो’ इंडोनेशिया के बाज़ार को कवर करती है। यह आज वहां की नंबर-1 ऑटो वेबसाइट बन गई। हाल ही में कंपनी ने कारमुडी के फिलीपींस ऑपरेशन का अधिग्रहण करते हुए दक्षिण एशिया के दो देशों तक अपनी पहुंच बढ़ाई है। कारदेखो ने मार्की निवेशकों से फंड जुटाया है जिसमें सिकोइया इंडिया, हिलहाउस कैपिटल, पिंग एन, सनले हाउस, कैपिटल जी (पहले गूगल कैपिटल के रूप में जाना जाता था), एचडीएफसी बैंक, एक्सिस बैंक, टाइम्स इंटरनेट, ट्राइफेक्टा, रतन टाटा, क्रिएटिफ मीडिया कार्य और देंसु शामिल हैं।