ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
केजरीवाल ने तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली
February 16, 2020 • Vijay sharma
5 मंत्रियों ने ली शपथ, बुलाए गए थे 50 खास मेहमान, 
नई दिल्ली। अरविंद केजरीवाल ने आज तीसरी बार दिल्ली के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। केजरीवाल के साथ 6 मंत्रियों मनीष सिसोदिया, सत्येंद्र जैन, राजेंद्र पाल गौतम, गोपाल राय, इमरान हुसैन और कैलाश गहलोत ने ली शपथ। उप राज्यपाल अनिल बैजल ने उन्हें शपथ दिलाई। आम आदमी पार्टी ने दिल्ली के विकास में योगदान देने वाली 50 लोगों को समारोह में विशेष अथिति के तौर पर बुलाया था। केजरीवाल ने शपथ लेने के बाद संबोधन शुरू करने से पहले इंकलाब जिंदाबाद के नारे लगवाए। 
रामलीला मैदान में कार्यक्रम से पहले ही सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ताओं पहुंच गए थे। उन्होंने मंच पर पेंटिंग की। इसके अलावा इलाके में पौधरोपण और फूल लगाए गए। दिल्ली पुलिस ने इलाके की सुरक्षा के लिए पुलिसबल तैनात किया है। बताया गया है कि दिल्ली पुलिस और पैरामिलिट्री फोर्स के दो से तीन हजार जवान समारोह स्थल के आसपास तैनात हैं।
शपथ ग्रहण के 50 नायक
अरविंद केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह में 50 ऐसे नायक मौजूद रहे, जिन्होंने अपने दमखम से दिल्ली की तस्वीर बदलने का बीड़ा उठाया। ये साधारण लोग हैं, लेकिन इन्होंने अपनी असाधारण इच्छाशक्ति से दिल्ली में बदलाव की नींव रखी है। इनमें से कुछ शिक्षाविद् हैं, कोई बस मार्शल है तो कोई दिल्ली में सड़क हादसे में घायल हुए लोगों का इलाज कराता है। इस समूह में कोई सफाई कर्मचारी है, तो कई शहीद के परिवार से है। कुछ ऐसे लोग हैं जिन्होंने दिल्ली में आग की घटनाओं से निपटने में अपनी जान दे दी। कुछ लोग रेप पीडि़तों का हौसला बढ़ाते हैं। इनमें टेनिस खिलाड़ी सुमित नागल, दिल्ली के सरकारी स्कूल में पढ़ कर आईआईटी परीक्षा पास करने वाले विजय कुमार, मोहल्ला क्लीनिक की डॉक्टर अल्का, बाइक एंबुलेंस सेवा चलाने वाले युद्धिष्ठिर राठी, नाइट शेल्टर में केयरटेकर शबीना नाज, बस मार्शल अरुण कुमार, सिग्नेचर ब्रिज के आर्किटेक्ट रतन जमशेद बाटलीबोइ और मेट्रो पायलट निधि गुप्ता शामिल हैं।
 
शिक्षकों को समारोह में बुलाने पर भाजपा ने सवाल उठाए
शपथ समारोह से पहले ही भाजपा विधायक विजेंदर गुप्ता ने केजरीवाल को पत्र लिखा। आरोप लगाया कि आप ने एक सर्कुलर जारी किया है, जिसके तहत 15 हजार सरकारी स्कूल टीचरों को शपथ ग्रहण में पहुंचना अनिवार्य किया गया है। गुप्ता ने इस सर्कुलर को तानाशाही और लोकतंत्र के खिलाफ बताया। हालांकि, मनीष सिसोदिया ने कहा कि शिक्षकों को सिर्फ न्योता दिया है। यह कोई आदेश नहीं है। भाजपा को पता ही नहीं कि टीचर्स की इज्जत कैसे करते हैं।
बीजेपी विधायक विजेंद्र गुप्ता हुए शामिल
केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह में बीजेपी विधायक विजेंद्र गुप्ता पहुंचे हैं। आजतक से बातचीत में विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि जिसे समारोह में आना होगा वो आएगा। जीत और सफलता का मंत्र होता है कि झुक कर चलें। उन्होंने कहा कि जनता के लिए केंद्र और केजरीवाल सरकार मिलकर काम करें।
नफरत की राजनीति का कोई स्थान नहीं
आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सांसद सुशील गुप्ता ने कहा कि भारतीय लोकतंत्र में नफरत की राजनीति का कोई स्थान नहीं है। केजरीवाल ने पुरानी टीम में अपने विश्वास को दोहराया है क्योंकि लोग उन पर भरोसा करते हैं।