ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
खेती में अत्यधिक रासायनिक खाद और कीटनाशकों का उपयोग घातक: कृषि मंत्री
February 28, 2020 • Vijay sharma • मध्यप्रदेश
खरगोन। प्रदेश के कृषि, उद्यानिकी एवं खाद्य प्रसंस्करण मंत्री सचिन सुभाष यादव ने गुरूवार को भगवानपुरा और सेगांव तहसील में जय किसान फसल ऋण माफी योजना के कार्यक्रम में कहा कि सरकार को जो भी वक्त मिला है इस पूरे समय में किसानों और गरीबों के हितों की परवाह की है। उसी का परिणाम है कि आज हम प्रथम चरण में 20 लाख से अधिक किसानों के फसल ऋण माफ कर चुके है। सरकार ने जो लक्ष्य तय किया है उसमें अब तक  कई लक्ष्य पूरे कर चुके है। चुनौतियां कम नही है है फिर भी फसल ऋण माफ करने का लक्ष्य तय किया था। वो भी पूरा होने को है द्वितीय चरण में किसानों के ऋण माफ किए जा रहे हंै। हमने तय किया था कि किसानों के लिए फिर से बैंक और सहकारी संस्थाएं ऋण उपलब्ध कराएं, अब बैंक किसानों को ऋण देने लगी है। इस कार्यक्रम में कृषि मंत्री श्री यादव ने मंच से सांकेतिक तौर पर करीब 30 किसानों को ऋण मुक्ति प्रमाण पत्र वितरित किए। जबकि अन्य किसानों के लिए संस्थावार व बैंकवार स्टॉल बनाए गए थे। इन स्टॉलों से किसानों ने अपने-अपने ऋणमुक्ति प्रमाण पत्र प्राप्त किए। कार्यक्रम के स्वागत संबोधन में कृषि उप संचालक एमएल चौहान ने कार्यक्रम की रूपरेखा प्रस्तुत की। कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष कमला केदार डावर, कृषि संयुक्त संचालक आरएस सिसोदिया, कलेक्टर  गोपालचंद्र डाडए पुलिस अधीक्षक  सुनील पांडेय, जिला पंचायत सीईओ डीएस रणदाए एसडीएम अभिषेक गेहलोत सहित अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थित रहे।
    कृषि मंत्री श्री यादव ने किसानों को संबोधित करते हुए कहा कि अब राज्य सरकार किसानों की कृषि में लागत कम करने की दिशा में योजना पर कार्य कर रही है। इसके अलावा उपज के सही दाम किसानों को मिले, इसको भी इस योजना में शामिल किया जाएगा। कृषि मंत्री ने उपस्थित किसानों से गौ आधारित खेती करने का भी आव्हान किया। उन्होंने कहा कि अत्यधिक मात्रा में रासायनिक खाद व कीटनाशक का उपयोग समाज के लिए घातक साबित होने लगा है। समाज को जैविक खाद उपलब्ध करना भी किसानों को सोचना चाहिए। इसलिए गौ आधारित खेती हम सभी के हित में होगी।
 
 
इस अवसर पर क्षेत्रीय विधायक केदार डावर ने उपस्थित किसानों को द्वितीय चरण में फसल ऋण माफी होने की बधाई व शुभकामनाएं देते हुए कहा कि शासन ने ग्राम पंचायतों की जरूरतों को समझते हुए मुख्यमंत्री मदद योजना प्रारंभ की है।