ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
कोरोना के कहर के बीच आंधी-पानी और ओलों ने चौपट की फसलें
March 27, 2020 • Admin
भोपाल। मध्य प्रदेश में जहां एक ओर कोरोना वायरस का संक्रमण बढ़ता जा रहा है, वहीं दूसरी ओर प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में तेज बारिश ने किसानों पर दोहरी मार शुरू कर दी है। बारिश की वजह से खेतों में खड़ी फसल बुरी तरह प्रभावित हुई है। जिससे गेहूं  पतला हो जाएगा, एवं औसत कम हो जाएगी।  कम से कम 40 प्रतिशत फसल को नुकसान होने की आशंका है। बेमौसम हो रही इस बारिश से बीमारियों का खतरा बढ़ गया है। होशंगाबाद, इंदौर, विदिशा, रायसेन, हरदा, आगर-मालवा, हरसूद, सेंधवा, भिंड जिले में तेज बारिश हुई। अब किसान बारिश से प्रभावित हुई फसल का मुआवजा मांगने की स्थिति में आ गए हैं। 
राजधानी भोपाल में जहां रात को बारिश हुई, वहीं सुबह भी जमकर बारिश हुई। बारिश के दो-तीन दौर चले, जिससे सड़कें भीग गईं और शहर में सब्जियों की आवक प्रभावित हुई। वहीं मौसम में ठंडक घुल गई। होशंगाबाद जिले के ताल केशली, सेंदरवाड़ा, चौराहेट, सतवासा, बहारपुर, झालौन, गुलोन मेघली, फुरतला, पहनतला, सेमरी हरचंद, बंशीखेरी, गाजनपुर,  सागाखेड़ा खुर्द, मारागांव, ग्राम में आज तेज हवाओं के साथ बारिश हुई, जिससे पूरे गांव के आसपास की फसलें बिछ गईं। अब इनके बचने की उम्मीद ना के बराबर हो गई है। जिले की बाबई तहसील के साथ ही अन्य इलाकों में भी बारिश के चलते फसल खराब होने की खबर मिली है। आज सुबह तेज हवा के साथ विदिशा, हरदा, रायसेन जिलों में वर्षा हुई। जिलों में कई जगह ओले भी गिरे, एक पखवाड़े के अंदर दूसरी बार ओले गिरने से गेहूं की फसलों को खासा नुकसान हुआ है। बाबई तहसील के किसान कुवरसेन पटेल, सौरभ पालीवाल, कैलाश उईके, जहांगीर अलवी, धर्मेन्द पटेल, अखिलेश दीवान, कैलाश पालीवार, निर्दोश तिवारी, घनश्याम चौधरी, करतारसिंह चौहान, शिवराज राजपूत, रिंकू राजपूत, सुनील पवार, बंटी गुर्जर, सेठजी पटैल, सहित क्षेत्र के कई किसानों ने फसल में हुए नुकसान का सर्वे कराकर मुआवजा देने की मांग प्रदेश सरकार से की है। विदिशा के ग्राम देवखजूरी में तेज बारिश के साथ 15 मिनट तक गिरे हल्के ओले, ग्राम नाथपुरा ग्राम पंचायत कोलुआ तहसील शमशाबाद जिला विदिशा में बारिश के साथ ओलावृष्टि भी हुई, जिससे फसलें बर्बाद होने की आशंका है। भिंड जिले के मिहोना और दबोह में गरज-चमक के साथ बारिश का दौर जारी है। बारिश के किसानों के चेहरे पर चिंता छाने लगी है, कुछ फसल खलियानों में रखी है और कुछ खेतो में कटने को, किसानों को पेट्रोल पंप से डीजल भी नहीं मिल रहा, ऐसे में उनकी परेशानी दोगुनी हो गई है।