ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
कोविड-19 से जुड़ी जानकारी देने के लिए टेलीग्राम चैनल शुरू
April 10, 2020 • Admin
कोविड-19 से लडऩे के लिए मायगॅव ने एनडीएमए और 
एमओएचएफडब्ल्यू के साथ सहयोग किया
दिल्ली। भारत सरकार ने सामाजिक संगठनों के लिए वालंटियर सेवा या डोनेशन हेतु जुडऩे के लिए राज्यवार हेल्पलाइन नंबर्स जारी किये गये हैं सोशल मीडिया चैनल्स पर फैलायी गयी गलत व भ्रामक जानकारियों को दुरुस्त करने के लिए आधिकारिक रूप से सत्यापित टेलीग्राम चैनल से जुड़ें। भारत सरकार ने टेलीग्राम पर एक डेडिकेटेड चैनल लॉन्च किया। क्लाउड-आधारित मोबाइल एवं डेस्कटॉप मेसेजिंग ऐप्प, टेलीग्राम पर इस चैनल को लॉन्च करने का उद्देश्य मौजूदा कोरोना वायरस कोविड-19 महामारी को नियंत्रित करने की दिशा में उठाये गय व उठाये जाने विभिन्न कदमों के बारे में सही-सही और सटीक जानकारी उपलब्ध कराना है। मायगॅव द्वारा शुरू की गयी यह पहल, प्रामाणिक चैनल के जरिए इस महामारी के प्रकोप के बारे में गलत व भ्रामक जानकारियों को फैलने से रोकना है। कोविड-19 की मौजूदा स्थिति के बारे में जानकारी व सूचनाएँ प्राप्त करने के
इच्छुक व्यक्ति इस प्लेटफॉर्म से जुड़ें, क्योंकि यह अत्यंत प्रामाणिक स्रोत है जहाँ वो विश्वसनीयता को लेकर पूरी तरह आश्वस्त हो सकते हैं। यह मायगॅव इन इंडिया द्वारा कोरोना वायरस से जुड़ी खबरों के लिए एक आधिकारिक रूप से सत्यापित चैनल है, जहाँ तथ्यपरक एवं उपयोगी समाचार साझा की जायेगी। इस ऐप्प की मदद से इसके सब्सक्राइबर्स मायगॅव कोरोना न्यूजडेस्क द्वारा साझा किये गये कंटेंट को एक्सेस कर सकेंगे व उसे पढ़ सकेंगे। यह चैनल 24&7 लाइव होगा और यहाँ सरकारों द्वारा जारी परामर्शों, क्या करें व क्या न करें, साफ-सफाई व स्वच्छता से जुड़े दिशानिर्देश, विभिन्न प्रतिष्ठानों की मानक परिचालन प्रक्रियाओं व अन्य के बारे में जानकारी हासिल की जा सकेगी। इसके अलावा, मायगॅव द्वारा एनडीएमए और एमओएचएफडब्ल्यू के संयुक्त सहयोग के बारे में भी टेलीग्राम चैनल पर जानकारी दी जा रही है, और कोरोना के खिलाफ़ भारत की लड़ाई में योगदान देने के इच्छुक वालंटियर्स व लोगों से भी आगे आकर सहयोग देने हेतु आह्वान किया गया है। स्वयं को पंजीकृत कराने वाले लोगों से संबंधित राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों/स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय के अधिकारियों द्वारा संपर्क किया जायेगा, और उनके द्वारा दान दिये गये चिकित्सा उपकरण/आपूर्तियों के बारे में जानकारी दी जायेगी। प्रमुख रूप से चार क्षेत्रों में योगदान दिया जा सकता है - स्वास्थ्य, संचार, उद्यमीय और अन्य अत्यावश्यक वस्तुएँ।