ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
लोकायुक्त ने पकड़ा था 3 हजार की रिश्वत के साथ, नगर निगम कर्मी फिर भी कर रहा है  कार्य
August 20, 2020 • Admin • मध्यप्रदेश

नगर निगम कर्मी का मामला


6 माह हो गए लोकायुक्त कार्यवाही को, नहीं किया निलंबित
निगम अधिकारी क्यों हैं  मेहरबान उद्यान शाखा के क्लर्क शामिमुद्दिन पर
भोपाल।  नगर निगम के उद्यान शाखा में कार्यरत क्लर्क को जनवरी माह में  कर्मचारी के मृतक पूर्व राशि भुगतान को जारी करने के एवज में 5 हजार रुपए रिश्वत के साथ लोकायुट के द्वारा रंगे हाथो पकड़ा था। 6माह से अधिक समय के बाद भी कोई कारवाही नहीं की गई।  नगर निगम हमेशा से ही भ्रष्टाचार को लेकर  सुर्खियों में रहा है।उसका प्रमुख कारण निगम के अधिकारियों का संरक्षण मिलना रहा है। जिसका उदाहरण नगर निगम के उद्यान शाखा के क्लार्क का प्रकरण है। सूत्रों से प्राप्त जानकारी अनुसार नगर निगम के उद्यान शाखा के लेखा शाखा में  पदस्थ रहे जो अब दूसरी शाखा में कार्यरत शामिमुद्दिन  को लोकायुक्त के द्वारा जनवरी 2020 में 3 हजार रुपए की रिश्वत के साथ रहे हाथ पकड़ा था। साथ ही उसकी तलाशी में लगभग 40 हजार रुपए भी मिले थे जिनका वह लोकायुक्त को कोई जवाब नहीं दे पाया था।यह रिश्वत उद्यान शाखा में माली के पड़पर कार्यरत रहे स्व. शेख मोहम्मद  जिनका देहांत 17 अप्रैल 2019 को है गया था।इनके भुगतान को लेकर रिश्वत की मांग की गई थी जिसकी लिखित  शिकायत शेख रिजवान,पिता स्व. शेख मोहब्बत के द्वारा लोकायुक्त में की गई थी। 
लोकायुक्त ने 3 हजार रुपए की रिश्वत के साथ गिरफ्तार किया था। उसके बाद भी उसे ना ही नगर निगम ने निलंबित किया ऑर नहीं लोकायुक्त ने आरोप पत्र दिया।  जबकि ऐसे मामलों में विभाग की छवि को स्वच्छ रखने तुरंत निलंबित किया जाना चाहिए था। वहीं लोकायुक्त ने लगभग 7 माह होने के बाद भी नहीं आरोपी को आरोप पत्र दिया है ऑर नहशीट न्यायालय में पेश की है। क्या कारण है कि दोनों विभाग कार्यवाही नहीं कर रहे हैं। लगता है दोनों ही विभाग उक्त भ्रष्ट कर्मचारी को बचाने में लगे हुए हैं।