ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
मध्यप्रदेश स्थापना दिवस’ पर एण्डटीवी के एमपी निवासी कलाकारों ने अपना क्षेत्रीय गौरव व्यक्त किया और  शुभकाामनाएं दी । 
October 30, 2020 • Admin • मध्यप्रदेश

हर साल 1 नवंबर को भारत का दूसरा सबसे बड़ा राज्य मध्यप्रदेश अपना स्थापना दिवस मनाता है। मध्यप्रदेश के 65वें स्थापना दिवस के अवसर पर, एमपी निवासी एण्डटीवी के कलाकारों ने अपना क्षेत्रीय गौरव व्यक्त किया और इस खास दिन को साथ मिलकर मनाते हुए अपनी शूभकामनाएं दी। यह कलाकार हैं- भोपाल की सारा खान (‘संतोाी माँ सुनाएं व्रत कथाएं‘ की देवी पाॅलोमी), ग्वालियर की सारिका बहरोलिया (‘गुड़िया हमारी सभी पे भारी‘ की गुड़िया), इंदौर की ाुभांगी अत्रे (‘भाबीजी घर पर हैं‘ की अंगूरी) और कामना पाठक (‘हप्पू की उलटन पलटन‘ में राजेा)। सारा खान ने कहा, ‘‘एमपी को ‘भारत का दिल’ भी कहा जाता है, जहाँ वन्यजीवन, इतिहास, धर्म और प्राकृतिक सुंदरता का खजाना है। मैं भोपाल से हूँ, जिसे ‘झीलों का ाहर’ कहा जाता है। भोपाल में मुझे पसंद है सबसे अच्छी बहारदार खूबसूरती, हरियाली, अच्छा इंफ्रास्ट्रक्चर, बेहतरीन खाना और प्रदूाण-रहित वातावरण। दिलचस्प बात यह है कि मार्च 2020 में एक नागरिक धारणा सर्वेक्षण हुआ था, जिसमें भोपाल को भारत र्के ाीा पाँच रहने योग्य ाहरों में जगह मिली। हमारे राज्य के स्थापना दिवस पर मध्यप्रदेा के सभी लोगों को हार्दिक ाुभकामनाएं।’’ ाुभांगी अत्रे ने कहा, ‘‘मैं इंदौर में जन्मी और पली-बढ़ी हूँ। हमारा राज्य एमपी आर्किटेक्चर और स्मारकों से भरा है, सांची के स्तूप से लेकर खजुराहो की मूर्तियों तक, कला और ािल्प से जो गूढ़ता और कहानियाँ चित्रित की गईं हैं, वे बेमिसाल हैं! यह बताते हुए भी मुझे गर्व हो रहा है कि स्वच्छ सर्वेक्षण 2020 में इंदौर भारत का सबसे स्वच्छ ाहर होने के नाते लगातार चैथे सार्ल ाीा पर रहा। एमपी स्थापना दिवस पर मध्यप्रदेा के लोगों को मेरी ाुभकामनाएं और बधाइयाँ।’’सारिका बहरोलिया ने कहा, ‘‘मेरी पुरानी यादें ताजा हो जाती हैं, जब कोई मेरे होमटाउन ग्वालियर या मध्यप्रदेा का जिक्र करता है, क्योंकि दोनों ही मेरे दिल के बहुत करीब हैं! मुझे आज भी तानसेन म्यूजिक फेस्टिवल की भीड़, सिंधिया म्यूजियम की आचर्यजनक चीजें, तेली का मंदिर में प्रार्थना करना याद है। अभी मैं अपने घर से दूर हूँ, लेकिन मेरा दिल हमेाा मध्यप्रदेा में रहेगा। यह सचमुच हम सभी के लिये एक उल्लासपूर्ण क्षण है और मैं सभी को राज्य के स्थापना दिवस की ाुभकामना देती हूँ।’’   अंत में कामना पाठक ने कहा, ‘‘मध्यप्रदेा निस्संदेह सर्वश्रेठ राज्यों में से एक है, जहाँ कई लुभावनी चीजें हैं- पर्यटन की विविधता, समृद्ध सांस्कृतिक और आध्यात्मिक धरोहर, वन्यजीवन, कला और संस्कृति, कविता से लेकर खाने के ाौकीनों और खरीदारों का स्वर्ग होने तक। इंदौर और भोपाल देा के 10 सबसे स्वच्छ ाहरों में ाुमार हैं और इंदौर उस सूची में सबसे ऊपर है। इंदौर से मेरे बचपन और बढ़ती उम्र के र्वाों की मीठी यादें जुड़ी हैं। हमारे राज्य के स्थापना दिवस पर मैं मध्यप्रदेा के लोगों को ाुभकामना देती हूँ और कामना करती हूँ कि हमारा राज्य विकास की नई ऊँचाइयों को छूना जारी रखे।’’