ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
महारिूवरात्रि पर शिवालयो में गूजें बम भोले के जयकारे
February 22, 2020 • Vijay sharma
सिरोंज। महाशिवरात्रि के पर्व की नगर सेे लेकर ग्रामीण अचंलो में धूम रही। सभी शिवालय बम भोले के जयकारो से गूंज उठे शिवजी को प्रसन्न करने के लिऐ भक्तो के द्वारा शिवालयों में अभिषेक विधि विधान से पूजा अर्चना की। दूध दही शहद के साथ भांग धधूरा बीलपत्री भी अर्पित किये। प्रात: काल से ही श्रृद्धालुओं का मंदिरों में पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया था। देर शाम तक चलता रहा। शिवरात्रि के चलते सभी मंदिरो को विशेष रूप से श्रृगांर किया गया था। झांकियां भी लगाई थी। नगर के प्रसिद्ध मंदिर जटाशंकर मंदिर, नीलकण्ठेश्वर मंदिर, नागेश्वर मंदिर, पंचकुईया महादेव मंदिर, छत्री नाका स्थित मंदिर,जागेश्वर महादेव मंदिर सहित सभी मंदिरो में दर्षन और पूजा करने के लिए भक्तो का तांता लगा रहा। रात्रि में भजन कीर्तन के साथ विभिन्न कार्यक्रम हुए। खीर की प्रसादी का वितरण किया गया। देर शाम को जागेश्वर महादेव सेवा समिति के द्वारा भव्य शिव बारात निकाली गई। रथ पर भगवान शिवजी का स्वरुव विराजमान किया गया था। भूत पालीत नंदी के स्वरूप  शामिल थे। डीजे बज रहे भगवान शिवजी के भजनों पर भक्तजन झूमते नाचते चल रहे थे। नगर के मुख्य मार्गो से होते हुे छिपेटी बाजार स्थित शिव मंदिर पर पहुची जहा पर भगवान शिवजी और पार्वती का विवाह सम्पन्न हुआ। पूजा अर्चना आरती के बाद महाप्रसादी का वितरण किया गया। इसी तरह ग्राम झण्डवा में भी बडे ही हर्ष उल्लास के साथ शिवरात्रि का त्यौहार मनाया गया। धूमधाम से भगवान षिवजी की बारात निकाली गई। जिसमें भक्तजन बडे उत्साह के साथ शामिल हुए। ग्राम पिपलिया हाट में बाबा बरफानी शिव मंदिर पर शिवजी का अभिषेक के बाद भंडारे का आयोजन किया गया। इसके अलावा दीपनाखेड़ा सहित विभिन्न ग्रामो एंव स्थानों पर कार्यक्रमंों का आयोजन किया गया।
   नगर के प्रसिद्ध तीर्थ स्थल बाबा विष्वनाथ स्वामी के धाम देवपुर में महाशिवरात्रि पर श्रृद्धालुओ का जनसैलाब उमड पडा। भीड इतनी थी कि कई घण्टों के बाद बाबा विश्वनाथ स्वामी के दर्शन हो पा रहे थे। मंदिर समिति  और प्रशासन द्वारा भीड को देखते हुए महिला पुरूषों को दर्शन करवाने के लिए अलग-अलग कतारे लगाई गई थी। प्रात:काल से ही दर्शन करने के लिए श्रृद्धालुओ का आना शुरू हो गया था। पवित्र कुण्ड के जल से स्नान करके बाद भगवान विश्वनाथ स्वामी जी की पूजा अर्चना, अभिषेक किया गया। मेले का आयोजन भी किया गया।