ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
मैदानी अमला मुख्यालय पर रहे : कियावत
November 21, 2020 • Admin • मध्यप्रदेश

कमिश्नर ने उप-स्वास्थ्य केन्द्रों का किया औचक निरीक्षण 

 

भोपाल । संभागायुक्त कवीन्द्र कियावत ने जिले के ईंटखेड़ी दिल्लौद, हर्राखेड़ा और बसई उप-स्वास्थ्य केन्द्रों का औचक निरीक्षण किया। श्री कियावत ने सभी केन्द्रों का बारीकी से निरीक्षण किया। उन्होंने दवाई रजिस्ट्रर, पेशेंट रजिस्ट्रर सहित अन्य रिकार्ड चैक किये। दवाईयों की एक्सपायरी डेट भी चैक की। कमिश्नर श्री कियावत ने सख्त हिदायत दी कि मैदानी अमला अपने-अपने मुख्यालय पर रहे नहीं तो नौकरी छोड़कर घर बैठे। उन्होंने योजनाओं की जानकारी संबंधी सभी बैनर / पोस्टर को एक रूप एवं सलीके से लगाने को कहा। उन्होंने सीडीपीओ को निर्देश दिये कि सभी गर्भवती माताओं की उप-स्वास्य्त केन्द्र में बैठक कर उपलब्ध सुविधाओं की जानकारी दी जाए ताकि सभी सामान्य डिलेवरी उप-स्वास्थ्य केन्द्र में ही हों ताकि प्रसव के लिये शहरों में जाकर ग्रामीण परेशान न हों। उन्होंने सभी उप-स्वास्थ्य केन्द्रों में शिशुओं के पोषण की जागरूकता के लिए पोषण वाटिका लगाने के निर्देश दिये। 

 

 श्री कियावत ने कहा कि सीएमओ और ए.एन.एम मुख्यालय पर रहेंगे और उप-स्वास्थ्य केन्द्र 24 घंटे खुला रहेगा। उन्होंने आशा कार्यकर्ता से कहा कि उप-स्वास्थ्य केन्द्र बंद मिलने पर मुख्य खंड चिकित्सा अधिकारी एवं सीईओ को तुरंत जानकारी दे। उन्होंने स्वास्थ्य केन्द्रों में उपलब्ध दवाईयों की जानकारी ली एवं सीएमएचओ को निर्देशित किया कि दवाईयों की उपलब्धता सुनिश्चित बनाये रखें। कभी भी उप-स्वास्थ्य केन्द्रों पर दवाईयों की कमी न रहें। 

 

 कमिश्नर ने मुख्य खंड चिकित्सा अधिकारी के काम के प्रति नाराजगी जाहिर करते हुए सख्त निर्देश दिये कि सभी हेल्थ एंड वेलनेस सेंटर को सुव्यवस्थित किया जाए। जनता को सरकार द्वारा मुहैया सभी स्वास्थ्य सुविधाएं सुलभ हों। उप-स्वास्थ्य केन्द्र के अमले को डिलेवरी के लिये उपयुक्त ट्रेनिंग दिलाई जाए। एक भी सामान्य प्रसव उप-स्वास्थ्य केन्द्र से अलग कहीं और न हों। प्रसव कहीं और होने पर कारण बताना होगा अन्यथा सख्त कार्यवाही होगी। गर्भवती माताओं को उप-स्वास्थ्य केन्द्रों की सभी सुविधाओं की जानकारी देकर विश्वास दिलाया जाएगा कि यहाँ सुरक्षित प्रसव की सभी सुविधाएं उपलब्ध हैं। श्री कियावत ने स्वयं भी अपना ब्लड प्रेशर मेजर कराया।

 

 कमिश्नर ने हर्राखेड़ा के उप-स्वास्थ्य केन्द्र के निर्माण कार्य की गुणवत्ता ठीक नहीं होने पर नाराजगी जाहिर की और निर्माण एजेंसी को ब्लेक लिस्ट करने के निर्देश दिये। साथ ही एक सप्ताह में उप-स्वास्थ्य केन्द्र के सभी अधूरे कार्यों को पूर्ण करने के निर्देश दिये।

 

 कमिश्नर के साथ सीईओ जिला पंचायत विकास मिश्रा, जनपद फंदा सीईओ देवेश मिश्रा, बैरसिया जनपद सीईओ उपेन्द्र सिंह सेंगर, संयुक्त संचालक महिला एवं बाल विकास नकी जहाँ कुरैशी, सीएमएचओ डॉ. प्रभाकर तिवारी, बीएमओ अनिता सहित संबंधित विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।