ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
मंत्री मीना सिंह पर लगा प्रताड़ना का आरोप, पीड़ित ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर मांगी इच्छा मृत्यु
August 8, 2020 • Admin • राष्ट्रीय

पीड़ित ने 10 वर्षो से प्रताड़ित करने का लगाया आरोप, प्रताड़ना से तंग आकर मांगी इच्छामृत्यु

भोपाल। मध्यप्रदेश में राजनैतिक सियासी उलटफेर के बाद सत्ता में आई भाजपा सरकार और उसमें सबसे पहले बनाई गई कैबिनेट मंत्री  मीना सिंह पर उन्ही के विधानसभा क्षेत्र के करौंदी टोला के सरपंच ने प्रताड़ना का आरोप लगाया है। क्षेत्र के विधायक और सरकार की अजाक मंत्री मीना सिंह पर ग्राम पंचायत करौंदी टोला के सरपंच सुरेश सिंह उर्फ मुन्ना सिंह ने  महामहिम राष्ट्रपति को पत्र भेजकर उल्लेख किया कि उसे बीते दस वर्षों से निजी स्वार्थों के कारण मानपुर विधानसभा की विधायक और वर्तमान में मंत्री सुश्री मीना सिंह द्वारा कुछ आदिवासियों से अनावश्यक और झूंठी शिकायत कराकर उनकी प्रतिष्ठा पर आघात कर बदनाम कर रही है। *मध्यप्रदेश की अजाक मंत्री से लगातार प्रताड़ित होने से अब सुरेश सिंह ने राष्ट्रपति से इच्छामृत्यु की अनुमति मांगी है।

रिश्तेदारों से करा रही झूंठी शिकायत,

फर्जी मामलों में फंसा देने की दी जा रही धमकी

प्रदेश की अजाक मंत्री से परेशान पीड़ित सुरेश कुमार सिंह पिता लक्ष्मी प्रताप सिंह निवासी करौंदी टोला तहसील मानपुर ने महामहिम राष्ट्रपति एवं प्रदेश के मुख्यमंत्री समेत प्रशासन को लिखे पत्र में स्पष्ट रूप से उल्लेख किया कि विधायक मीना सिंह द्वारा अपने रिश्तेदार गांव के मोले सिंह, एवं गोकुल सिंह से समय समय पर शिकायत कराई जाती है जिसमे मुझ प्रार्थी सुरेश कुमार सिंह उर्फ मुन्ना सिंह पर वन भूमि की करौंदी टोला, नेउसी, दमना, बड़ार, हिरौली, बिजौरी, भमरहा, मझौली ,कुदरी में कब्जा करने की झूंठी शिकायत कराकर मेंरे राजनैतिक भविष्य को खराब कर रही हैं, जबकि उक्त शिकायत की जांच वन परिक्षेत्र अधिकारी मानपुर एवं उपसंचालक बाँधवगढ़ टाईगर रिजर्व द्वारा प्रतिवेदन में स्पष्ट रूप से दिया  गया कि सुरेश कुमार सिंह द्वारा कोई अवैध कब्जा नही किया गया, बावजूद इसके भी मुझे परेशान किया जा रहा है। इतना ही नही विधायक द्वारा अपने चहेते आदिवासी और रिश्तेदारों को उकसाकर मेरे पट्टे आराजी पर अवैध रूप से कब्जा कराने का प्रयास भी किया जा रहा है। पीड़ित सुरेश कुमार सिंह ने कहा कि अगर उसे इच्छा मृत्यु की अनुमति नही मिलती तो वह विधायक की प्रताड़ना से तंग आकर आगामी 2 अक्टूबर को जिला कार्यालय उमरिया के सामने आत्मदाह कर लेगा।