ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
मेकशिफ्ट की तकनीक से अब बनेंगे हॉस्पिटल
June 30, 2020 • Admin

सीएसआईआर-एम्प्री भोपाल ने की हस्तानांतरित -अस्पताल निर्माण की लागत होगी कम

भोपाल। आगामी समय मे मेकशिफ्ट तकनीक से हॉस्पिटल बनेंगे। इसके बाद स्पतालों के निर्माण की लागत कम होगी, वही पर्यावरण संरक्षण में भी यह मददगार बनेगा। सीएसआईआर- एम्प्री भोपाल एवं सीएसआईआर- सीबीआरआई, रुड़की के द्वारा विकसित इस तकनीकी को सोमवार सीएसआईआर- एम्प्री भोपाल निदेशक डॉ. अवनीश कुमार श्रीवास्तव द्वारा हस्तांतरित किया गया। इस अवसर पर मप्र विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद् भोपाल के महानिदेशक डॉ. अनिल कोठारी प्रमुख रूप से उपस्थित थे। जग्गी मेंसर्स जनता टेंट एंड इवेंट्स के नरेन्द्र सिंह को तकनीकी हस्तांतरित करते हुए श्री श्रीवास्तव ने कहा कि यह तकनीक COVID-19 आपात स्थिति से निपटने के लिए शीघ्र अस्पताल, आवास इमारतों के निर्माण में मदद करेगा। इस तकनीक में हल्के पूर्वनिर्मित एलुमिनियम पोर्टल्स का उपयोग किया जाता है जो कि फोल्डेबल, लगाने में आसान, पुन: प्रयोज्य, सुरक्षित और कम लागत की हैं। संरचना, आकार परिवर्तनशीलता की विशेषता से युक्त है। यह सुदूरक्षेत्रों, गाँव एवं अधिक आबादी वाले क्षेत्रों में भी मददगार साबित होगी। डॉ. श्रीवास्तव नें कहा कि मेरा दृढ़ विश्वास है कि यह प्रौद्योगिकी मील का पत्थर साबित होगी और कोविड-19 के खिलाफ राष्ट्र की लड़ाई में मदद करेगी। वही डॉ. अनिल कोठारी का कहना था कि इस प्रौद्योगिकी के प्रयोग से प्रदेश की कई समस्यायों का निवारण होगा। इसके साथ ही यह विश्वास भी जताया कि, यह तकनीक वर्तमान परिदृश्य में कम लागत के अस्पतालों के त्वरित निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाएगी। वही सीबीआरआई रुड़की के निदेशक डॉ. एन गोपालाकृष्णन ने बताया कि विकसित तकनीक राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय मानकों के अनुरूप है तथा बहुत कम समय में प्रभावित क्षेत्र में प्रयोग में लाई जा सकती है। इस अवसर पर एम्प्री, भोपाल एवं सीबीआरआई, रूडकी के वैज्ञानिक एवं अधिकारियों ने विडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से अपनी सहभागिता निभाई।