ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
NSUI राज्य कार्यकारिणी की बैठक वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सम्पन्न
May 11, 2020 • Admin

छात्रों को किसी भी प्रकार की परेशानी नही होनी चाहिए-विपिन वानखेड़े

लॉकडाउन के कारण भोपाल, इंदौर में फँसे छात्रों को घर पहुचाने की पूर्ण जिम्मेदारी ले राज्य सरकार-विवेक त्रिपाठी

भोपाल।  मध्यप्रदेश NSUI की राज्य कार्यकारिणी बैठक *'ZOOM APP'* के माध्यम से सम्पन्न हुई जिसमे छात्र छात्राओं को हो रही समस्याओं, आवागमन की व्यवस्थाओं,अन्य राज्यों में फँसे प्रदेश के छात्रों,भोपाल इंदौर जैसे *'RED ZONE'* एरिया में फँसे छात्रों को सुरक्षित घर पहुंचाने,स्कूल कॉलेज की 6 माह की फीस माफ करवाने समेत संगठन की गतिविधियों के बारे में  राष्ट्रीय अध्यक्ष नीरज कुंदन, प्रदेश प्रभारी नीतीश गौड़ ,प्रदेश अध्यक्ष विपिन वानखेड़े और प्रदेश प्रवक्ता विवेक त्रिपाठी द्वारा समस्त प्रदेश पदाधिकारियों और जिलाध्यक्षों से चर्चा की गई। बैठक को संबोधित करते हुए राष्ट्रीय अध्यक्ष नीरज कुंदन जी ने कहा कि छात्रों को किसी भी प्रकार की असुविधा नही होनी चाहिए NSUI के प्रत्येक कार्यकर्ता की ये ड्यूटी है कि वो अपने जिले में रह रहे बाहरी छात्रों से निरंतर संपर्क में रहें और हर परिस्थिति में उनका साथ दें।

NSUI के राष्ट्रीय सचिव और प्रदेश प्रभारी नीतीश गौड़ ने कहा कि कोरोना संक्रमण के दौरान हुए लॉकडाउन के कारण देश की अर्थव्यवस्था निम्नतम स्तर पर आ गई है छात्रों के पास खाने को पैसे नहीं है,छात्र घरों से दूर अन्य जिलों में फंसे हुए हैं अतः सरकार को स्वसंज्ञान लेते हुए छात्रों की 6 माह की फीस माफ करते हुए जनरल प्रमोशन दे देना चाहिए अगर सरकार हमारी मांगों पर तत्काल एक्शन नही लेती है तो पूरी मध्यप्रदेश NSUI लॉकडाउन के नियमों का पालन करते हुए कड़ा से कड़ा विरोध दर्ज करवाएगी।

प्रदेश अध्यक्ष विपिन वानखेड़े ने सभी प्रदेश पदाधिकारी और जिलाध्यक्षों के कार्यों की समीक्षा करते हुए कहा कि सभी अच्छा काम कर रहे हैं हमे ऐसे ही मजबूती से काम करने की आवश्यकता है। 
श्री वानखेड़े ने कहा कि कोरोना संकट की इस घड़ी में भी प्रदेश सरकार हमारे कार्यकर्ताओं के साथ द्वेषपूर्ण व्यवहार कर रही है जिससे डरने की आवश्यकता नही है हम इन तानाशाही ताकतों को मुहतोड़ जवाब देंगे। बैठक के दौरान प्रदेश प्रवक्ता विवेक त्रिपाठी ने कहा कि  जब सरकार अन्य प्रदेशों के RED ZONE वाले एरिया में फंसे लोगों को सुरक्षित घर पहुंचाने की व्यवस्था कर रही है तो भोपाल,इंदौर,ग्वालियर,जबलपुर सहित RED ZONE वाले अन्य जिलों में फंसे मध्यप्रदेश के मूलनिवासी छात्रों को निकालने की व्यवस्था भी सरकार को अबिलम्ब रूप से करनी चाहिए।

श्री त्रिपाठी ने प्रदेश सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि मध्यप्रदेश सरकार भले न प्रदेशवासियों की मदद हेतु हेल्पलाइन नम्बर जारी कर पाए लेकिन मध्यप्रदेश NSUI जल्द ही एक हेल्पलाइन नम्बर शुरू करने जा रही है जिसके माध्यम से NSUI लॉकडाउन में फंसे लोगों को E-PASS सहित अन्य समस्याओं के बारे में जरूरी सुझाव और जानकारी प्रदत करेगी। श्री त्रिपाठी ने प्रदेश सरकार से मांग करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार अपने गृहजिले से बाहर रह रहे छात्रों को हॉस्टल फीस और रूम रेंट देने की कृपा करें जिससे छात्रों और उनके परिजनों को 3 माह के किराए का अतिरिक्त बोझ न पड़े।श्री त्रिपाठी ने प्रदेश सरकार को सुझाव देते हुए कहा कि प्रदेश सरकार को प्रदेश के मूलनिवासी छात्रों के लिए 'कोरोना भत्ता' की शुरुआत करनी चाहिए जिसमें छात्रों को कोरोना के दौरान हुए आर्थिक नुकसान की भरपाई हो सके।

श्री त्रिपाठी ने जानकारी देते हुए कहा कि 12 मई को शाम 8 बजे दुनिया में नर्सिंग की संस्थापक फ्लोरेंस नाइटिंगेल की याद में कोरोना महामारी के दौरान मरीजों की सेवा,देखभाल में शहीद हुए नर्सिंग स्टाफ को श्रद्धांजलि देने के लिए दीपक जलाकर श्रद्धांजलि अर्पित करेगी। बैठक के दौरान आगामी उपचुनावों के बारे में भी चर्चा हुई इस बैठक में NSUI के सभी प्रदेश पदाधिकारी और जिलाध्यक्ष शामिल रहे।