ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
फिट हेल्थ वर्कर अभियान प्रारम्भ-
October 3, 2020 • Admin • मध्यप्रदेश

भोपाल ।  स्वास्थय विभाग द्वारा सम्भाग में शुक्रवार  2 अक्टूबर से 23 अक्टूबर 2020 तक *फिट हेल्थ वर्कर कैंपेन* का आयोजन प्रारम्भ हो गया है। समस्त स्वास्थ्य संस्थाएं जिला चिकित्सालय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पीएचसी, यूपीएचसी उप स्वास्थ्य केंद्र पर हेल्थ वर्कर कैंपेन में आज से 23 अक्टूबर तक  समस्त स्वास्थ्य संस्थाओं पर कार्यरत स्वास्थ्य कर्मचारी, विशेषज्ञ, चिकित्सक, नर्स, लैब टेक्नीशियन, एएनएम, एमपीडब्ल्यू, आशा एवं आंगनवाड़ी कार्यकर्ता का बीमारियों की पहचान एवं उपचार हेतु स्किनिंग करेंगे जिसमे  रक्तचाप, डायबिटीज, सर्वाइकल, कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर और ओरल कैंसर आदि सम्मलित होगा ।

          संभागायुक्त आयुक्त  कवींद्र कियावत ने निर्देश दिए है कि किसी भी परिस्थिति में स्वास्थ्य संस्थाओं पर आयोजन के समय भीड़ एकत्रित ना हो। कोविड-19 रोकथाम संबंधी समस्त नियम मास्क पहनना एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जाना अनिवार्य है। समस्त स्वास्थ्य संस्थाओं के अधिकारियों, कर्मचारियों की स्कैनिंग जांच एवं उपचार सुचारू रूप से किए जाने हेतु आवश्यक है कि कार्यक्रम की पूर्ण सारणी पूर्व में ही साझा की जाए। स्वास्थ्य संस्थाओं पर पदस्थ कर्मचारियों की स्कैनिंग उनकी स्वास्थ्य संस्थाओं पर ही की जाएगी। मैदानी स्तर पर कार्यरत एएनएम, एमपीडब्ल्यू आशा, आशा सहयोगिनी, आंगनवाड़ी कार्यकर्ता, सहायिका की स्कैनिंग समीपस्थ स्वास्थ्य संस्थाओं पर की जाएगी।
समस्त स्वास्थ्य संस्थाओं पर औषधि सामग्री आवश्यक उपकरणों एवं संसाधनों की उपलब्धता का दायित्व संस्था प्रभारी का होगा स्वास्थ्य संस्थाओं पर किए जाने वाले समस्त परीक्षण एवं जांच की एंट्री एएनएम एमपीडब्ल्यू के द्वारा एनसीडी ऐप पर किया जाना होगा। स्कैनिंग उपरांत संभावित प्रकरणों की जांच एवं उपचार की जानकारी को एनसीडी पोर्टल पर इंद्राज करने की पूर्ण जवाबदेही स्वास्थ्य संस्था के चिकित्सा अधिकारी की होगी। समस्त स्वास्थ्य संस्थाओं पर की गई जांच एवं उपचार की रिपोर्ट को एनसीडी एवं एनसीडी पोर्टल पर इंद्राज होने की सघन निगरानी का दायित्व जिला प्रबंधक एवं जिला एमएंडई ऑफिसर का होगा।आयुष्मान योजना अंतर्गत पात्र समस्त हितग्राहियों को उपचार हेतु संबंधित चिकित्सालय में रेफर किया जाना है समस्त कर्मचारी जिन्हें उच्च चिकित्सा की आवश्यकता है उन्हें उपचार हेतु मेडिकल कॉलेज में रेफर किया जाना होगा उपरोक्त अनुसार समस्त दिशा निर्देशों का पालन किया जाना सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए है।