ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
प्रदेश के अधिकारी कर्मचारियों जनरल प्रोविडेंट फंड (GPF) की ब्याज दर कम होने से हो रहा नुकसान
September 12, 2020 • Admin • मध्यप्रदेश

भोपाल । मध्‍यप्रदेश सरकार ने जनरल प्रोविडेंट फंड (GPF) पर ब्याज दर में कटौती कर दर को 8 प्रतिशत फीसदी से घटाकर 7.9 फीसदी किया गया है। कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) भविष्य निधि जमा पर 8.5 फीसदी ब्याज दे रहा है । भविष्य निधि (ईपीएफ) के समान ही जनरल प्रोविडेंट फंड (GPF) की ब्याज दर भी 7.9 फीसदी से बढाकर 8.5 फीसदी करने की 
मध्‍यप्रदेश तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ के महामंत्री लक्ष्‍मीनारायण शर्मा ने मांग की है । 
मध्‍यप्रदेश सरकार ने जनरल प्रोविडेंट फंड (GPF) की ब्याज दर में कटौती कर जुलाई-सितंबर से मार्च 2020 तक के लिए ब्याज दर को 7.9 फीसदी कर दिया है। गौरतलब है कि अप्रेल से जून 2029 में जनरल प्रोविडेंट फंड और अन्य समान फंड्स पर ब्याज दर 8 फीसदी थी। यह संसोधित ब्याज दर से राज्‍य सरकार के 5 लाख से अधिक अधिकारियों एवं कर्मचारियों, आर्थिक नुकसान हुआ है।  वही दूसरी ओर कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ने भविष्य निधि जमा पर चालू कारोबारी साल 2019-20 के लिए ब्याज दर को 8.5 फीसदी कर दिया।मध्‍यप्रदेश तृतीय वर्ग शासकीय कर्मचारी संघ के महामंत्री लक्ष्‍मीनारायण शर्मा ने प्रदेश के मुख्‍यमंत्री एवं मुख्‍य सचिव को मेल पत्र प्रेषित कर मांग की है कि  भविष्य निधि (ईपीएफ)पर घोषित ब्याज दर 8.5 फीसदी के समान ही जनरल प्रोविडेंट फंड (GPF) की ब्याज दर भी 7.9 फीसदी से बढाकर 8.5 फीसदी की जायें जिससे प्रदेश के लाखों अधिकारी एवं कर्मचारियों को फायदा हो सकें ।