ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
प्रोजेक्‍ट मुंबई को प्रतिष्ठित यूनाइटेड नेशंस एसडीजी एक्‍शन सॉलिडरिटी अवार्ड 2020 से सम्‍मानित
July 26, 2020 • Admin • अंतर्राष्ट्रीय

 कोविड-19 महामारी के दौरान लोकहितकारी कार्यों के लिए वैश्विक सम्‍मान दिया गया

यूनाइटेड नेशंस एसडीजी एक्‍शन कैंपेन में दुनिया भर में संस्‍थाओं/व्‍यक्तियों के सम्मिलित प्रयासों की 50 सबसे प्रेरक कहानियों को सम्‍मानित किया गया
यूनाइटेड नेशंस एसडीजी एक्‍शन कैंपेन ने हाई-लेवल पॉलिटिकल फोरम में 16 जुलाई (एकजुटता को समर्पित दिन) को चयनित संस्‍थाओं की घोषणा की

मुंबई । प्रोजेक्‍ट मुंबई, जो मुंबई में विशेषकर कोविड-19 से अपनी लड़ाई के दौरान विभिन्‍न पहलों के जरिए सामाजिक परिवर्तन लाने हेतु जाना जाने वाला पब्लिक-पीपुल-प्राइवेट पार्टीसिपेशन का एक पुरस्‍कृत मॉडल है, को सॉलिडरिटी अवार्ड के एक वैश्विक प्राप्‍तकर्ता के रूप में यूएन एसडीजी एक्‍शन कैंपेन द्वारा चयन किया गया है। सॉलिडरिटी अवार्ड, वार्षिक यूएन एसडीजी एक्‍शन अवार्ड्स 2020 का एक विशेष अभियान है। 

शिशिर जोशी, मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी व संस्‍थापक और प्रोजेक्‍ट मुंबई, इस सम्‍मान के लिए वैश्विक रूप से चयनित 50 व्‍यक्तियों/संस्‍थाओं में शामिल हैं। 

दुनिया के शीर्ष 50 सम्‍मान-प्राप्‍तकर्ताओं में, तीन विजेताओं के नाम भारत के हैं। प्रोजेक्‍ट मुंबई इनमें से एक विजेता है और इस क्षेत्र का एकमात्र विजेता है। 

प्रोजेक्‍ट मुंबई 20 महीने पुराना एक अलाभकारी संगठन है। पिछले सौ दिनों में, इसने तीन मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य हेल्‍पलाइंस शुरू किये, अकेले रह रहे असहाय बुजुर्गों और विकलांग व्‍यक्तियों को रसद और दवाएं उपलब्‍ध कराने हेतु वॉलंटियर्स का एक नेटवर्क बनाया, डॉक्‍टर्स को 2 लाख से अधिक पीपीई किट्स दिये, मुंबई पुलिस को दो लाख मास्‍क्‍स दिये। इसने अपनी विभिन्‍न पहलों के जरिए मुंबई के बेघर और प्रवासी 45 लाख लोगों को पके-पकाये भोजन बांटे और इसके अलावा, 20,000 से अधिक परिवारों को ग्रोसरी किट्स वितरित किये। 

वर्तमान वैश्विक स्‍वास्‍थ्‍य संकट के दौरान, हर जगह के लोगों ने साथ आकर पास-पड़ोस व समाज को नये मानदंडों के अनुरूप ढालने में मदद की है। संकट की इस घड़ी में लोगों ने बढ़-चढ़कर अपने कर्तव्‍य व दायित्‍व का निर्वाह किया है।

मौजूदा संकट काल में प्रोजेक्‍ट मुंबई की पहलों को ''पथ-प्रदर्शक और परिवर्तनकारी'' भूमिकाओं के रूप में देखा गया है।

इस पहल के जरिए, यूएन एसडीजी एक्‍शन कैंपेन ने वर्तमान कोविड-19 महामारी के दौरान दुनिया भर के समुदायों में लोगों की जिंदगियों को बेहतर बनाने, मुश्किलो से लड़ने हेतु उन्‍हें प्रेरित करने और उनमें उम्‍मीद जगाने हेतु की गई सबसे सार्थक, सुखकारी और प्रभावशाली पहलों को सम्‍मानित किया है। 
प्रोजेक्‍ट मुंबई का कथन: 

प्रोजेक्‍ट मुंबई के संस्‍थापक, शिशिर जोशी ने बताया, ''प्रोजेक्‍ट मुंबई की स्‍थापना स्‍वेच्‍छापूर्ण लोकहितकारी सिद्धांतों के आधार पर हुई है। इसका सहायता एवं संपर्क मंच इस भावना पर आधारित है कि यह शहर हम सभी का है और यहां के लोगों की जिंदगियों को सीधे तौर पर प्रभावित क्षेत्रों को समझने और क्षमतानुसार सहयोग करना हर स्‍वयंसेवी नागरिक की जिम्‍मेवारी है। मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य हेल्‍पलाइंस और असहायों व बजुर्गों को अत्‍यावश्‍यक वस्‍तुओं की नि:शुल्‍क आपूर्ति से लेकर रसद सामग्री व दवाएं उपलब्‍ध कराने तक, प्रत्‍येक पहल को क्रियान्वित करने में प्रोजेक्‍ट मुंबई के हाइपरलोकल वॉलंटियर्स द्वारा सहयोग दिया गया है। 

प्रोजेक्‍ट मुंबई में, हम सभी का यह दृढ़विश्‍वास और मानना है कि मुंबई के लिए कुछ भी करेगा।

यूनाइटेड नेशंस द्वारा प्रदत्‍त यह सम्‍मान ऐसे हर व्‍यक्ति के जज्‍बे को सलाम करता है जिन्‍होंने कोविड-19 से हमारी लड़ाई में सहयोग दिया है।'' 

यूनाइटेड नेशंस का कथन: 

यूएन एसडीजी एक्‍शन कैंपेन की ग्‍लोबल डाइरेक्‍टर, मरीना पोंटी ने कहा, ''लक्ष्‍य को लेकर हमारे भीतर उम्‍मीद होनी चाहिए, एकजुटता होनी चाहिए, और हमें रचनात्‍मक एवं समन्वित तरीके से कार्य करना चाहिए। इस वैश्विक स्‍वास्‍थ्‍य संकट के मद्देनजर, हमें हर जगह लोगों के बीच एकजुटता के दमदार उदाहरण देखने को मिल रहे हैं। दयालुता और मिलजुल कर काम करने जैसी नेक सोच बढ़ रही है, हर जगह पास-पड़ोस, समुदायों और लोगों को नये मानदंडों के अनुरूप ढलने में उनकी सहायता की जा रही है। हम प्रोजेक्‍ट मुंबई को बधाई देते हैं, जिन्‍होंने इस संकट की घड़ी में दूसरों की जिंदगी को बेहतर बनाने, मुसीबतों का हौसला से सामना करने और लोगों में उम्‍मीद जगाने हेतु एकजुटता और दृढ़संकल्‍प का परिचय दिया है।''