ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
राज्यसभा के बाद निकाय चुनाव की तैयारी में जुटेगी भाजपा
February 29, 2020 • Vijay sharma
भोपाल। राज्यसभा चुनाव की कवायद पूरी होने के बाद भारतीय जनता पार्टी प्रदेश में होने वाले वाले नगरीय निकाय चुनाव की तैयारी में जुट जाएगी। फिलहाल प्रदेश के अधिकांश नगर निगमों को कार्यकाल खत्म होने के कारण भंग कर दिया गया है। इन पर भाजपा का कब्जा था। कांग्रेस सरकार बनने के बाद इस साल नगरीय निकाय चुनाव में कड़ी टक्कर होने की संभावना है। ऐसे हालात में भाजपा की तैयारी है कि वह हर नगर निगम में पार्षद से महापौर तक के टिकट के लिए चेहरे चिन्हित करने और सर्वे कराने आदि का काम राज्यसभा चुनाव के बाद प्रारंभ कर देगी। पार्टी अब नए चेहरों को आगे बढ़ाने पर विचार कर रही है।
भाजपा के लिए बड़ी चुनौती-
लोकसभा चुनाव में प्रदेश की 29 में से 28 सीट जीतने के बाद भाजपा नगरीय निकाय चुनाव में भी कोई कोरकसर नहीं छोडऩा चाहती है। भाजपा इन दिनों राज्यसभा चुनाव में व्यस्त है। पार्टी इसके बाद नगरीय निकाय की तैयारी में जुट जाएगी। भाजपा विधानसभा चुनाव की गलती न दोहराकर नगरीय निकाय चुनाव में नई पीढ़ी को सामने लाना चाहती है। पार्टी नेताओं की मानें तो राजनीति के पायदान पर ये छोटे चुनाव बेहद अहम होते हैं। यहां से एंट्री के बाद ही नए चेहरे विधानसभा और लोकसभा तक जाते हैं। संगठन चुनाव में पार्टी ने युवाओं को काफी संख्या में आगे बढ़ाया है। भाजपा सूत्रों का कहना है कि पिछले चुनाव में भाजपा सभी 16 नगर निगम में काबिज हो गई थी, लेकिन सत्ता परिवर्तन के साथ इस बार पुराने परिणामों को दोहराना भाजपा के लिए बड़ी चुनौती है।
उपचुनाव की चुनौती-
इधर भाजपा के लिए आगर विधानसभा सीट पर कब्जा बरकरार रखने और जौरा को कांग्रेस से छीनने की भी बड़ी चुनौती है। इस सीट से जीते मनोहर ऊंटवाल के निधन के बाद यहां उपचुनाव होना है। भाजपा में इस सीट को बचाए रखने की भरसक कोशिश कर रही है। पार्टी ने अभी से ही प्रत्याशी की तलाश शुरू कर दी है, वहीं कांग्रेस के कब्जे वाली जौरा सीट जिताने के लिए पार्टी एड़ी-चोटी का जोर लगा रही है।
 भाजपा के मुख्य प्रवक्ता डॉ. दीपक विजयवर्गीय का कहना है कि नगरीय निकाय चुनाव पर भी पार्टी की नजर है। हमारी स्थानीय सरकार ने जो उपलब्धियां हासिल की हैं, उन्हें जनता तक पहुंचाने की रणनीति बनाएंगे। प्रचार के अलावा स्थानीय स्तर पर जो समितियां बनानी हैं, पार्टी सही समय पर उसका फैसला लेगी।