ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
रामायण में मिल रहा है बाल, उससे कोरोना का है उपाय
March 22, 2020 • Admin

मप्र के भिंड जिले की गोहद तहसील में स्थित ग्राम दंदरौआ मेंं प्रसिद्ध हनुमान जी की प्रतिमा 

……...........................................................................................................

दंदरौआ धाम  के महंत श्री रामदास जी महाराज को आया था सपना, जैसा कि लोगों ने बताया।

ग्वालियर।  तुलसीकृत रामायण के बाल कांड में मिल रहे बाल से घरों में कोरोना के संक्रमण का उपाय किया जा रहा है। इस बात की जानकारी प्रदेश के ग्वालियर, भोपाल भिंड, सहित गोरखपुर, प्रतापगढ़ तक पहुँच गई है। बताया जाता कि भिंड जिले में प्रशिद्ध दंदरौआ धाम में हनुमान जी का मंदिर है।  वहां के महासन्त श्री रामदास जी महाराज को सपने में हनुमान जी ने सपने में बताया कि इस महामारी का उपाय रामायन के बाल कांड में एक बाल मिलेगा जिसे गंगा जल में डालकर उस जल को आने घर में सिंचित कर व सभी सदस्य अपने आंखों  व शरीर पर लगाने  से कोरोना के संक्रमण बचा जा सकता है। यह बात धीरे धीरे सभी जगह फेल गई और जनता अपने घर में रखी रामायण में बाल ढूंढ ने लगी ओर बात सही भी पाई गई। अब सैकड़ों घरों में यह अपनाया जा रहा है।उत्तरप्रदेश के गोरखपुर में विमल शुक्ला,प्रतापगढ़ में उर्मिला शुक्ल, ग्वालियर में मधु शर्मा, भिंड में रमेश शर्मा, मुरैना में अशोक शर्मा, भोपाल में ज्योति शर्मा  ऐसे ही न जाने कितने ओर है जिन्होंने इस बाल मिलने की सत्यता को  आजमाया है। इस मामले के लिए दंदरौआ के महंत रामदास जी महाराज से संपर्क करना चाहा तो उनका फोन अटेंड नहीं हुआ। अब यह बात कितनी सही है। यह कहना मुश्किल है।लेकिन एक बात सत्य है कि लोगों की आस्था अगर ईस्वर में है तो यह चमत्कार होना स्वाभाविक है।  यहां यह बताना आवश्यक है कि दंदरौआ धाम को डॉक्टर हनुमान के नाम से भी जाना जाता है। वहां पर हर तरहः के मरीज अपनी बीमारी से छुटकारा पाने के लिए जाते है। हजारों लोग गम्भीर नीमारियों से मुक्त हो चुके हैं।