ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
रानी कमलापति प्रतिमा के अनावरण समारोह में हुआ जबरदस्त हंगामा
February 16, 2020 • Vijay sharma
कांग्रेस पार्षद ने रोका महापौर का रास्ता, समर्थकों के साथ की झूमाझटकी और बदसलूकी, नाराज महापौर गांधी प्रतिमा के समक्ष धरने पर बैठे
 
भोपाल। भारी हंगामें और विरोध के बीच महापौर आलोक शर्मा ने आज कमलापार्क के समीप छोटे तालाब के घाट पर रानी कमलापति की प्रतिमा का लोकार्पण कर दिया। स्थानीय पार्षद शबिस्ता जकी ने बीच सड़क पर गाडिय़ां खड़ी कर महापौर का रास्ता रोका और जमकर हंगामा किया, कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा किए गए इस प्रदर्शन से आहत महापौर आलोक शर्मा इस आयोजन के बाद मिंटो हॉल पहुंच गए और गांधी प्रतिमा के समक्ष धरना शुरू कर दिया।
छोटे तालाब पर बन रहे आर्च ब्रिज के समीप ही रानी कमलापति की प्रतिमा स्थापित की गई है। कमलापार्क पर महल के समीप तालाब में यह प्रतिमा लगाने का खर्च करीब 96 लाख रूपये आया है। नगर निगम ने प्रतिमा के लोकार्पण का कार्यक्रम तैयार कर निमंत्रण पत्र बंटवा दिए थे। नगर निगम आयुक्त के नाम से जारी आमंत्रण पत्र पर तीन मंत्रियों जयवर्धन सिंह, पीसी शर्मा और प्रभारी मंत्री गोविंद सिंह के नाम शामिल थे। स्थानीय कांग्रेस पार्षद शबिस्ता जकी का नाम भी कार्ड पर दिया गया है। प्रतिमा के शिलालेख पर भी यह सभी नाम लिखे गए हैं लेकिन लोकार्पण समारोह का नजारा इसके विपरीत था। कार्यक्रम में कोई मंत्री नहीं पहुंचा, इसके विपरीत शबिस्ता जकी और उनके पति आसिफ जकी अपने समर्थकों के साथ वहां एकत्रित थे। महापौर आलोक शर्मा के पहुंचते ही वहां विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया। महापौर की गाड़ी को रोकने के लिए सड़क पर वाहन खड़े कर रास्ता रोक दिया गया। महापौर आलोक शर्मा अपने समर्थकों के साथ आयोजन स्थल की ओर गए तो प्रदर्शनकारियों ने समर्थकों के साथ भी धक्का मुक्की की जिससे वहां तनाव की स्थिति बन गई। विधायक श्रीमती कृष्णा गौर, विश्वास सारंग और नगर निगम परिषद अध्यक्ष सुरजीत सिंह चौहान भी इसी हंगामे के बीच आयोजन स्थल पहुंचे। कार्यक्रम को लेकर जारी हंगामें के बावजूद कांगे्रस के पार्षद गिरीश शर्मा आयोजन में शामिल नजर आए। प्रदर्शनकारियों को सम्हालने के लिए पुलिस को भी खासी मशक्कत करना पड़ी। 
विरोध के बाद भी हुआ अनावरण
महापौर आलोक शर्मा ने रोकने की कोशिश के बावजूद रानी कमलापति की प्रतिमा का अनावरण कर दिया। इस प्रतिमा के समीप ही गिन्नोरी रोड को किलोल पार्क से जोडऩे के लिए आर्च ब्रिज बनाया जा रहा है। इस ब्रिज के एपरोच रोड पर आ रहे कुछ मकानों को लेकर विवाद चल रहा है। पार्षद शबिस्ता जकी स्मार्ट रोड के मकान तोडऩे को लेकर विरोध करने के बाद यहां भी मकानों को शिफ्ट करने पर विरोध जता रही है जबकि इसके बिना ब्रिज के निर्माण का कोई औचित्य नहीं रह जाएगा। महापौर आलोक शर्मा ने कहा कि निमंत्रण पत्र छपने और शिलालेख तैयार होने तक सभी शांत रहे लेकिन जब उनके नाम की पट्टिका वहां लग गई तो पार्षद वहां विरोध करने पहुंच गई जो बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है। महापौर आलोक शर्मा ने कार्यक्रम में आए लोगों के साथ बदसलूकी पर भी नाराजगी व्यक्त की है।
 
धरने पर बैठे महापौर
रानी कमलापति की प्रतिमा के अनावरण के दौरान हुए हंगामें और धक्कामुक्की से नाराज हुए महापौर आलोक शर्मा आयोजन स्थल से रवाना होने के बाद सीधे पुराने विधानसभा भवन मिंटो हॉल स्थित गांधी प्रतिमा पर पहुंच गए और वहां धरना देकर बैठ गए। आलोक शर्मा का आरोप है कि कांग्रेस पार्षद विकास के हर काम में रोढ़ा अटका रहीं हैं। महापौर आलोक शर्मा ने महात्मा गांधी से कांग्रेस पार्षद को सद्बुद्धि देने की प्रार्थना की है। धरना स्थल पर रामधुन बजाई जा रही है तथा बड़ी संख्या में भाजपा कार्यकर्ता और समर्थक मौजूद हैं।
गोविंद सिंह ने भाजपा पर लगाया मनमानी का आरोप
भोपाल के प्रभारी मंत्री गोविंद सिंह ने रानी कमलापति की प्रतिमा के अनावरण को लेकर मनमानी का आरोप लगाया है। नगर निगम के निमंत्रण पत्र के अनुसार उन्हें कार्यक्रम में रहना था लेकिन वह नहीं पहुंचे। गोविंद सिंह के अनुसार प्रतिमा स्थापना को लेकर विधिवत अनुमति भी नहीं ली गई है। मुख्यमंत्री कमलनाथ इस कार्यक्रम को भव्य रूप से करना चाहते थे, इस बारे में उनसे चर्चा भी हो गई थी तथा अनुमति भी एक दिन में मिल जाती लेकिन भाजपा कार्यकर्ता अपना नाम शिलालेखों में लिखवाने की होड़ में लगे हैं।