ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
संभाग में 47760 गर्भवती माताओं और 81687 बच्चों का किया गया टीकाकरण
September 12, 2020 • Admin • मध्यप्रदेश

भोपाल । संभाग अंतर्गत गर्भवती माताओं और बच्चों के जन्म के समय टीकाकरण जारी है। जिसके माध्यम से शिशु मृत्युदर में कमी आई है। संभागायुक्त श्री कवीन्द्र कियावत द्वारा महिला एवं बाल विकास विभाग को निर्देश दिए गये है कि संभाग में शिशु मृत्युदर में कमी, गर्भवती माताओं और बच्चों का शत-प्रतिशत टीकाकरण समेत दवाईयों की उपलब्धता सुनिश्चित रहें। वर्तमान में भोपाल संभाग में 47760 गर्भवती माताओं और 81687 बच्चों का जन्म के समय टीकाकरण किया गया है। 
गर्भवती माताओं और बच्चों को जन्म से विभिन्न बीमारियों की रोकथाम के लिये शत-प्रतिशत टीकाकरण किया गया है। जिससे गर्भवती माताओं और बच्चों के स्वास्थ्य सहित अन्य बीमारियों से बचाव किया जा सके । भोपाल संभाग में 47760 गर्भवती माताओं और 81687 बच्चों का प्रारंभिक लक्ष्य के विरूद्ध टीकाकरण किया गया है। 

 संभागीय संयुक्त संचालक महिला एवं बाल विकास, नकी जहां ने बताया कि संभाग में प्रारंभिक 6 माह में ही गर्भवती माताओं और बच्चों के लक्ष्य के अनुसार टीकाकरण किया गया है। वहीं गर्भावस्था के दौरान माताओं को आयरन, फोलिक एसिड, बिटामिन डी, जिंक कैल्शियम और ओआरएस दवाईयों की उपलब्धता सुनिश्चित कराई गई है। प्रत्येक जिले में आगनवाड़ी केन्द्रों के माध्यम से तथा आशा और आगनवाड़ी कार्यकर्ताओं द्वारा समय-समय पर घर-घर जाकर गर्भवती माताओं की जानकारी और उन्हें समुचित स्वास्थ्य उपलब्ध कराया गया। इस काम की महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा समय-समय पर मॉनीटरिंग की जा रही है। जिले में 22952 गर्भवती माताओं के टीकाकरण के लक्ष्य के विरूद्ध 20112, राजगढ़ जिले में 4890 लक्ष्य के विरूद्ध 3538 के विरूद्ध, रायसेन जिले में 3519 लक्ष्य के विरूद्ध 2990, विदिशा जिले में 9927 लक्ष्य के विरूद्ध, 9135, तथा सीहोर जिले में 45450 लक्ष्य के विरूद्ध 11985 गर्भवती माताओं का टीकाकरण किया गया है। इसी प्रकार भोपाल जिले में 44796 बच्चों का टीकारण लक्ष्य के विरूद्ध 39606, राजगढ जिले में 11562 लक्ष्य के विरूद्ध 7911, रायसेन जिले में 12548 लक्ष्य के विरूद्ध 10609, विदिशा जिले में 15552 लक्ष्य के विरूद्ध 11397 तथा सीहोर जिले में 38550 लक्ष्य के विरूद्ध 12164 बच्चों का टीकाकरण किया गया है। 

 प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना बनी गर्भवती महिलाओं के लिए सहारा
अब तक संभाग में 22752 गर्भवती महिलाओं को दिया लाभ

प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना से अब हर गर्भवती महिला और होने वाल बच्चा स्वस्थ, तंदुरूस्त और पौष्टिक आहार प्राप्त कर रहा है ताकि योजना की क्रियाशीलता से गर्भावस्था में दोनों को समुचित लाभ प्राप्त हो सके। प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना ऐसी तमाम गर्भवती महिलाओं के लिए सहारा बनी हैं। भोपाल संभाग में प्रारंभिक लक्ष्य के अनुरूप 22,752 गर्भवती महिलाओं को प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना से जोड़ा गया है। 
प्रधानमंत्री मातृ योजना के माध्यम से ऐसी गर्भवती महिलाओं के गर्भावस्था का पता चलते ही इस योजना का लाभ लेने के लिए पात्र हो जाती है। जिसमें महिला को गर्भवती होने के दौरान राशि एक हजार रूपये, आठ माह की गर्भवती होने तक टीका लगते ही दो हजार रूपये तथा शिशु के जन्म के साढ़े तीन माह बाद दो हजार रूपये इस प्रकार कुल 5 हजार रूपये की सहायता राशि उसके बैंक खाते में जमा कर दी जाती है। इस हेतु महिला के आवेदन के साथ स्वयं का और अपने पति का आधार कार्ड, बैंक खाता एवं टीकाकरण कार्ड के साथ आगनवाड़ी केन्द्र में जमा कराना होता है। आगनवाड़ी कार्यकर्ताओं को फार्म प्राप्त करने के संबंध में निर्देश दिये गये है कि कोई भी पात्र महिला योजना का लाभ लेने आगनवाड़ी केन्द्र अथवा महिला एवं बाल विकास विभाग के परियोजना कार्यालय में संपर्क कर सकती हैं।  संभागीय संयुक्त संचालक महिला एवं बाल विकास विभाग सुश्री नकी जहां ने बताया कि प्रसव के दौरान गर्भवती महिलाओं को तीन किश्तों में योजना से संबंधित राशि उनके बैंक खाते में जमा कराई जाती है। जिससे उन्हें हर संभव मदद मिल सके। भोपाल संभाग अंतर्गत इस योजना का वित्तीय लक्ष्य निर्धारित किया गया है। जिसमें जिला भोपाल में 17921 लक्ष्य के विरूद्ध 5822, रायसेन जिले में 13503 के विरूद्ध 3670, राजगढ़ जिले में 15361 के विरूद्ध 4838, जिला सीहोर में 13620 के विरूद्ध 4269 तथा जिला विदिशा में 16423 लक्ष्य के विरूद्ध 4153 प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना से अब तक जोड़ा गया है। वहीं शेष महिलाओं की अद्यतन स्थिति प्रगति में है। संभाग में अनुपातिक उपलब्धि  लक्ष्य के विरूद्ध भोपाल में 541, रायसेन में 1655, राजगढ़ में 2200, सीहोर में 1135 और विदिशा में 97 गर्भवती महिलाओं की द्वितीय किश्त के प्रकरण स्वीकृत किये गये हैं।