ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
श्रमिक की बेटी सुनिधि ने रायफल शूटिंग में बढ़ाया देश और प्रदेश का गौरव
August 20, 2020 • Admin • खेल

एनसीसी में रहकर सीखा रायफल चलाना और अब शामिल हैं ओलम्पिक कोर ग्रुप में


       प्रतिभा किसी को आगे बढ़ने से कभी नहीं रोक सकती है, बस आगे बढ़ने का जूनून होना चाहिए। भोपाल की सुनिधि  चौहान  ने भी कभी नहीं सोचा था कि वह रायफल शूटिंग में ओलम्पिक कोर ग्रुप में थर्ड पोजिशन प्राप्त कर पाएंगी। मध्य प्रदेश सरकार द्वारा खिलाड़ियों को उपलब्ध कराई जा रही अंतर्राष्ट्रीय स्तरीय खेल सुविधाओं और उच्च स्तरीय प्रशिक्षण के चलते श्रमिक की बेटी सुनिधि  चौहान आज इस मुकाम पर पहुंची हैं। भोपाल स्थित आचार्य नरेन्द्र देव नगर गोविन्दपुरा निवासी श्रमिक राम समुझ  चौहान की बेटी सुनिधि  चौहान को बचपन से ही शूटिंग का लगाव रहा है। वह जब काॅलेज में पहुंची तब एनसीसी में रहकर उनकी रायफल चलाने की हसरत पूरी हुई और यहाँ रहकर सुनिधि को राष्ट्रीय स्पर्धा में प्रतिभा प्रदर्शन का अवसर मिला। उनकी शानदार प्रतिभा से प्रभावित एनसीसी कमांडर आफीसर ने उन्हें शूटिंग खेल में कैरियर बनाने के लिए मध्य प्रदेश शूटिंग अकादमी में प्रवेश के लिए प्रोत्साहित किया।

सुनिधि ने वर्ष 2017 में खेल अकादमी में ट्रायल दिया और उनके अच्छे प्रतिभा प्रदर्शन को देखते हुए उन्हें मध्य प्रदेश राज्य शूटिंग अकादमी में प्रवेश मिल गया। सुनिधि की लगन और परिश्रम से उन्हें वर्ष 2018 में त्रिवेन्द्रम में 62वीं एनएससीसी शूटिंग प्रतियोगिता में प्रदर्शन का अवसर मिला और उन्होंने पहला कांस्य पदक अर्जित किया। वर्ष 2019 में  दिल्ली में आयोजित राष्ट्रीय के.एस.एस.एम.एस.सी. काॅम्पटीशन में मध्य प्रदेश के लिए रजत पदक अर्जित किया। इसी वर्ष सुनिधि ने नेपाल में आयोजित साउथ एशियन गेम्स काठमाण्डू में शानदार प्रदर्शन करते हुए देश को स्वर्ण पदक दिलाया। उन्होंने 2019 में पांच अंतर्राष्ट्रीय शूटिंग प्रतियोगिताओं में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व भी किय।ओलम्पिक कोर ग्रुप में ओलम्पिक के दावेदार खिलाड़ियों में शामिल सुनिधि  चौहान इन दिनों प्रतिभा निखारने के लिए कड़ा परिश्रम कर रही हैं। सुनिधि ने बताया कि प्रदेश की खेल मंत्री यशोधरा राजे सिंधिया की पहल पर स्थापित विश्व स्तरीय शूटिंग अकादमी के माध्यम से मुझे राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर प्रतिभा प्रदर्शन का अवसर मिला। अकादमी के माध्यम से मिल रहे उच्च स्तरीय प्रशिक्षण एवं आधुनिक खेल सुविधाओं की बदौलत आज मुझे यह मुकाम हासिल हुआ है ।