ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
सोनतलाई-बागरा तवा स्टेशनों के बीच डबल ट्रेक हुए प्रारंभ
February 21, 2020 • Vijay sharma
 
नरसिंहपुर। बागरा तवा.सोनतलाई के तवा नदी के पुल की नई रेलवे लाइन को कमिश्नर आफ रेलवे सेफ्टी एके जैन द्वारा अपनी स्पेशल ट्रेन से 20 फरवरी 2020 को सुबह 8.58 पर सोनतलाई से बागरातवा 9.07 पर पहुंचकर, चालू करने के लिए प्रमाणपत्र जारी किया। इस डाउन ट्रेक से पहली गाडी 12191 श्रीधाम एक्सप्रेस 105 किमी की रफ्तार से नई रेलवे लाइन से निकाला गया। अब सिंगल लाइन में होने वाले बिलम्ब से यात्रियों को निजात मिलेगी। केन्द्र की भाजपा नीत राजग सरकार रेलवे के क्षेत्र में तेजी से कार्य कर रही है। इस सरकार ने वर्षो से दबी कुचली मांगो के प्रति अपनी गंभीरता दिखाई है।
  वर्ष 2015 के रेल बजट में बागरा तवा-सोनतलाई के तवा नदी के पुल का दोहरीकरण स्वीकृत किया था। पश्चिम मध्य रेल के उप मुख्य अभियंता निर्माण शाखा भोपाल ने इटारसी-जबलपुर सेक्शन के बागरा तवा-सोनतलाई खंड के चायनेज 3600 मीटर ब्राडगेज दोहरीकरण के संदर्भ में तवा नदी ऊपर 8 गुणा 61.0 मीटर स्थान के महत्वपूर्ण पुल की अधोसंरचना एवं निर्माण कार्य की 2713.61 लाख की निविदा 17 फरवरी 2016 को जारी की थी, जिसका निर्माण 20 फरवरी 2020 में पूरा होकर ट्रेन दौडऩे लगी। सोनतलाई से बागरा तवा के बीच 7 किमी लंबा दूसरा रेलवे ट्रैक तैयार हो गया है। अब तवा पर रेलवे का ब्रिज बनने का काम भी पूरा हो गया। सोनतलाई से बागरा तवा के बीच एक ही ब्रिज होने के कारण ट्रेनों को बीच में रोका जाता था, जिससे निजात मिल गई है। नया ब्रिज बनने से बागरा और सोनतलाई में ट्रेनों को रोकने की जरूरत नहीं पढ़ेगी। बागरा तवा टनल में सिंगल लाइन की जगह है। नई रेल लाइन को टनल से घुमाकर दूसरी तरफ से बनाया गया है। इसमें टनल नहीं है। दूसरा ब्रिज पुराने ब्रिज से 500 मीटर दूर बना है। इटारसी-जबलपुर-इलाहाबाद रेल लाइन इलेक्ट्रिफिकेशन व बागरा तवा-सोनतलाई के तवा नदी के पुल पर रेल लाइन दोहरीकरण से पश्चिम मध्य रेलवे जबलपुर रेल मंडल के अधीन आने वाली रेलवे ट्रेक सभी स्टेशनो को इसका लाभ मिलेगा, जिनमें प्रमुख है इटारसी, सोहागपुर, बनखेड़ी, पिपरिया, सालेचौका, गाडरवाड़ा, बोहानी, करेली, नरसिंहपुर, करकबेल, श्रीधा, भिटोनी, मदनमहल, जबलपुर, सिहोरा, मैहर, सतना, मानिकपुर है अब यहां भी ट्रेनों की गति बढ़ जावेगी।
 
इनका कहना है
  सांसद बनने के बाद मैंने सबसे पहले इसी मांग को रखा था। सिंगल ट्रेक बढ़ी समस्या थी। ब्रिज और नया ट्रेक गाडिय़ों के समय मे तो बचत करेगा ही साथ रेलवे को आर्थिक फायदा भी पहुंचाएगा। एक सांसद के लिए सपने जैसा काम था जो पूरा हो रहा है। 
-उदयप्रताप सिंह, सांसद