ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
स्‍वास्‍थ्‍यकर्मियों पर किया हमला, मिलेगी सात साल की सजा, केंद्र का ऐलान
April 22, 2020 • Admin • राष्ट्रीय

50 हजार से लेकर 7 लाख तक जुर्माना, 3 माह से 7 साल तक की सजा

नई दिल्ली। कोरोना संकरण के जांच को लेकर देश में स्वास्थ्य कर्मियों व डॉक्टरों पर हो रहे हमले को लक्सर केंद्र सरकार ने प्रस्ताव पास जिया है जिसमें 7 साल तक की सजा के साथ ही अर्थदंड का प्रावधान किया गया है। लॉक डाउन के दौरान देश में स्वास्थ्य कर्मचारियों के साथ मारपीट की घटनाएं सामने आई है। यह घटनाएं उस समय कुछ असामाजिक तत्वों द्वरा की गई जब देश कोरोना जैसी भीषण महामारी से संघर्ष कर रहा है। जिसमें सरकार जनता के स्वस्थ्य के प्रति हर संभव प्रयासरत है कि कोई भी व्यक्ति कोरोना की जांच से बचा न रहे। स्वास्थ्य कर्मियों की सुरक्षा आज के समय में महत्व पूर्ण है। इस तरह की घटनाओं को रोकने केंद्र सरकार ने सुरक्षा को लेकर कानून पास किया है। सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बुधवार को स्‍वास्‍थ्‍य कर्मियों पर हमले के लिए कड़ी सजा का प्रावधान किया। राष्ट्रीय महामारी कानून के तहत (बदलाव करके) अध्यादेश लागू किया जाएगा जिसके तहत डॉक्टरों पर हमला गैरजमानती अपराध होगा। 30 दिन में जांच पूरी होगी। एक साल में फैसला आ जाएगा। श्री जावड़ेकर ने कहा कि स्वास्थ्यकर्मियों पर हिंसा के लिए भारी सजा और जुर्माना लगाया जाएगा। आरोपियों को तीन महीने से लेकर 5 साल तक की सजा और 50 हजार से लेकर 3 लाख तक का जुर्माने का प्रावधान किया गया है। अगर कोई व्यक्ति संपत्ति या डॉक्टर, स्वास्थ्यकर्मी के वाहन का नुकसान करता है तो कीमत की दोगुनी राशि वसूली जाएगी। इसके साथ ही गंभीर हमले के केस में 6 महीने से 7 साल तक की सजा और 1 लाख से 7 लाख तक का जुर्माना वसूला जाएगा. मोदी सरकार ने पहले ही स्वास्थ्य कर्मियों के 50 लाख के इंश्योरेंस का फैसला किया था। देश में कोई भी कोविड अस्पताल नहीं था और अब 723 नए कोविड अस्पताल हैं।