ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
तथाकथित हाई प्रोफाइल संत पंडोखर सरकार के विरुद्ध पटवारियों ने खोला मोर्चा
February 14, 2020 • Vijay sharma

दतिया। अवैध अतिक्रमण की कार्रवाई से नाराज होकर जिले के पटवारी अंकित पाराशर के साथ अपहरण, मारपीट कर फायरिंग करने वाले तथाकथित त्रिकालदर्शी संत पंडोखर सरकार गुरुदेवशरण शर्मा के विरुद्ध गिरफ्तारी की मांग को लेकर मध्यप्रदेश के पटवारियों ने मोर्चा खोल दिया है। जिसके चलते प्रदेश के समस्त जिला मुख्यालय पर आज पटवारियों द्वारा कलेक्टर को ज्ञापन सौंपकर आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की है।

उक्त आशय की जानकारी देते हुए मध्य प्रदेश पटवारी संघ के प्रांतीय उपाध्यक्ष राजीव जैन ने बताया कि विगत दिवस अतिक्रमण की कार्रवाई दतिया जिले के पटवारी अंकित पाराशर द्वारा पंडोखर सरकार के नाम से प्रसिद्ध गुरुदेवशरण शर्मा महंत के विरुद्ध मध्यप्रदेश शासन की भू माफियाओं के खिलाफ की जा रही कार्यवाही के मध्य नजर की गई थी। जिससे नाराज होकर महंत गुरुदेवशरण शर्मा और उनके समर्थकों द्वारा पटवारी का अपहरण कर उसके साथ मारपीट की और मरणासन्न अवस्था में उसे हाईवे पर फेंक कर भाग गए। 

राजीव जैन ने बताया कि पटवारी की शिकायत पर दतिया पुलिस द्वारा नामजद आरोपी पंडोखर सरकार महंत गुरुदेवशरण शर्मा उनके बहनोई और 5-6 समर्थकों के खिलाफ अपहरण, बलवा सहित अन्य संगीन धाराओं में प्रकरण दर्ज कर लिया गया है, किंतु राजनीतिक संरक्षण और हाई प्रोफाइल संत होने की वजह से नामजद आरोपियों की गिरफ्तारी नहीं की जा रही है। साथ ही पटवारी के खिलाफ घटना के 10 दिन पश्चात मामला दर्ज कर समझौते का दबाव बनाया जा रहा है । इसी के चलते मध्य प्रदेश पटवारी संघ के आव्हान पर आज संपूर्ण प्रदेश में जिला मुख्यालय पर ज्ञापन सौंपकर आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग  की है। 

जिलाध्यक्ष सुमेरसिंह राजपूत ने कहा कि यदि आरोपियों की गिरफ्तारी शीघ्र नहीं होती है तो प्रदेश के पटवारी अतिक्रमण के मामलों में शासन का सहयोग नहीं करेंगे और आंदोलन के लिए बाध्य होंगे। हरदा जिला मुख्यालय पर मध्यप्रदेश पटवारी संघ के द्वारा संयुक्त कलेक्टर एच एस चौधरी को उक्त ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन सौंपते समय राजीव जैन, सुमेरसिंह राजपूत, अशोक मालवीय, सुभाष मर्सकोले, संतोष गौर, फूलसिंह उइके, नीरज आमे, जवाहर पटेल, विजय धार्मिक, जितेंद्र चौहान, पवन बांके आदि उपस्थित थे।

उल्लेखनीय हैं कि पटवारी अंकित पाराशर की शिकायत पर पंडोखर पुलिस ने महंत गुरुदेवशरण शर्मा ओर उनके बहनोई व पांच-छह अज्ञात लोगों पर भादवि की धारा 307 व बलवा की धाराओं में प्रकरण दर्ज किया है। गुरदेवशरण शर्मा जो कि वर्तमान में जनपद पंचायत भांडेर के उपाध्यक्ष भी हैं । अपने आपको त्रिकालदर्शी बताने वाले पंडोखर महंत पर पहले भी लग चुके हैं गंभीर आरोप, घटना के बाद पंडोखर महंत फरार है ओर पुलिस तलाश में जुटी हैं।

गौरतलब है कि महंत गुरदेवशरण शर्मा जो कि अपने आप को पंडोखर सरकार कहलाना पसंद करता उसका दरबार लगता है । कई चैनलों पर live टेलीकास्ट होता है, उनके दरबार मे जाने की ओर दर्शन के लिए तीन हजार से लेकर पांच हजार रुपए की रसीद कटती है। उनके यहाँ बड़े बड़े अधिकारी,मंत्री, मुख्यमंत्री भी पहुंचते है। ऐसे रसूखदार व्यक्ति के खिलाफ़ जब जाबांज पटवारी स्वाभिमान की रक्षा के लिए खड़ा हुआ तो पूरा पटवारी संघ आंदोलित हो गया है और बिना किसी डर, भय के खड़ा हो गया। इस दौरान पटवारीयों ने कहा कि हम इस लड़ाई को अंजाम तक ले जाएंगे, उसके द्वारा सरकारी जमीन पर किये गए अतिक्रमण की रिपोर्ट न्यायालय में दी गई है एवं माफिया बाली कार्यबाही की मांग भी की गई है। घटना के दस दिन बाद महंत की शिकायत पर पटवारी के खिलाफ पुलिस द्वारा मारपीट का मामला दर्ज किया गया है।