ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
वैदिक थेरेपी से कोरोना वायरस को लेकर राष्ट्रीय बेवीनार होम काँन भोपाल आयोजित
August 23, 2020 • Admin • मध्यप्रदेश

भोपाल । देश में ही नहीं पूरा विश्व  करोना जैसी महामारी से जूझ रहा है, ऐसी स्थिति में करोना का  खात्मा  वैदिक उपचार होम अग्निहोत्र के माध्यम से कैसे किया जा सकता है और होम अग्निहोत्र के क्या फायदे हैं को लेकर राष्ट्रीय स्तर पर वैदाचार्य समग्र स्वास्थ्य थैरेपिस्ट  का आज एक बेवीनार आयोजित किया गया जिसका नाम होमा काँन भोपाल रखा गया।  होम काँन भोपाल के नाम से राष्ट्रीय स्तर पर  बेवीनार आयोजित करने वाली डा पूजा कसेरा ने बताया कि शहर में गैस त्रासदी के समय जहरीली गैसों के प्रभाव को खत्म करने के लिए बडे़ स्तर होम अग्निहोत्र किया गया था ।  गैस कांड  के समय एक परिवार ऐसा बचा था जो कई वर्षों से होम अग्निहोत्र करता आ रहा था इस कारण उसकी हिम्युनीटी सिस्टम काफी अच्छा था, जिससे वो परिवार बच गया था, डा पूजा  ने बताया कि इसी तरह वर्तमान में करोना वायरस का प्रभाव बढ़ रहा है उसे हम हर घर में रोजाना होम अग्निहोत्र करके अपने घर परिवार की हिम्युनिटी सिस्टम बढा़ कर करोना वायरस को  समाप्त कर सकते हैं। पूरे देश में होम अग्निहोत्र की आवश्यकता है इसके लिए  शनिवार होम काँन भोपाल के नाम से राष्ट्रीय स्तर बेवीनर आयोजित किया गया है । जिसमें  अग्निहोत्र का महत्व बताकर इस बेवीनार में सभी राज्यों और चारों दिशाओं से समग्र स्वास्थ्य थैरेपिस्ट (चिकित्सक ) और वैदिक उपचार के आचार्य शामिल हुए। यह सभी पूरे देश में घर घर प्रतिदिन होम अग्निहोत्र किये जाने के लिए प्रेरित करेंगे जिससे करोना सहित अन्य बीमारियों के जीवाणु और विषाणुओं का खात्मा किया जा सके ।
डॉक्टर पूजा कसेरा ने बताया कि अब रोज अग्निहोत्र के लिए अब लोगों को लकडी़ कंडा और हवन सामग्री जुटाने की आवश्यकता नहीं है , डा पूजा कसेरा ने बताया कि रेडीमेट हवन कप हैष जिसमें सारी हवन सामग्री और हवन लकड़ी अंदर है उसे जलाकर हवन करना है* । अब लोगों को अग्निहोत्र करने के लिए सब सामग्री अलग - अलग जुटाने की आवश्यकता नहीं , गोबर से बने  हवन कपषमेंही सब कुछ शामिल होगा । होमा काँन भोपाल के नाम से आयोजित नेशनल बेवीनार में जयपुर से डा पूजा कसेरा, दिल्ली के भारतीय विद्या भवन से डा  भारत भूषण शर्मा , धर्मेन्द्र मिश्रा ,  भोपाल से डाक्टर मोनिका सोनी, डा मनोज चौरसिया , गोवा से फ्रेकलिन हर्ब्रट दास, हरिद्वार प्रो डा विरल पटेल , भारत सरकार आयुष मंत्रालय के पूर्व डायरेक्टर डा चिंदानंद मूर्थी, अहमदाबाद गुजरात से आचार्य पूनम हजेला, त्रिपूरा से आचार्य शिवगामा रत्ना और शिवबालन  सहित देश के अनेक राज्यों और शहरों से वैदाचार्य और आयुर्वेदिक डाक्टर जुटे रहे ।