ALL शिक्षा मध्यप्रदेश मनोरंजन राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय स्वास्थ्य खेल राजनीति
यात्रीगाड़ी के स्टाफ को मालगाड़ी में सेवाएं देने के किए आदेश
April 18, 2020 • Admin

भोपाल। भोपाल रेल मंडल के द्वारा यात्री टे्रन गार्डों की सेवाओं में परिवर्तन करते हुए मालगाड़ी के लिए आदेश किए गए हैं, जिससे कोरोना से संक्रमित होने का खतरा बढ़ रहा है। पहले भी एक गार्ड को यात्री टे्रन बंद होने के अंतिम दिन कोरोना होना पाया गया था।  एक तरफ जहाँ पूरे देश में लोगों को घर पर रखने लॉक डाउन बढ़ाया जा रहा है वहीं भोपाल मंडल अपने अधीन भोपाल, बीना, इटारसी डिपो के पैसेन्जर टे्रन के गार्डों व ड्राइवर्स से मालगाड़ी, एम्प्टी कोचिंग ट्रैन, आरडीएसओ ट्रैन, स्टाफ ट्रैन चलवा रही है। जबकि मालगाड़ी गार्ड की गाड़ी चार चार दिन में लग रही है। एक तरफ जहां सोशल डिस्टेनसिंग की मुहिम है वहीं भोपाल मंडल में रेल्वे ऐसा क्यों कर रही समझ से परे हैं। कि यात्रीगाड़ी का स्टाफ  इसीलिए सुरक्षित है कि वो घरों में है। सिर्फ एक गार्ड ही इफेक्टिव होकर पॉजिटिव हुए की 22 से गाड़ी बंद हो गयी वो 21 को आखरी ट्रिप में पॉजिटिव हुए। अब अगर इस तरह से नए स्टाफ को लाइन पर लगाया गया तो ये खतरा और बढ़़ेगा। अभी कुछ स्टाफ ही कोरोना से संक्रमित है। वैसे्र कोई भी स्टाफ मालगाड़ी को चलाने मना नहीं कर रहा लेकिन जब उक्त मालगाडिय़ों का गुड्स स्टाफ पर्याप्त मात्रा में है और पर्याप्त रेस्ट 2-3 दिन बाद गाड़ी लग रही तो यात्री गाड़ी के गार्ड, ड्राइवर को क्यों लगाया जा रहा है। अगर कभी जरूरत पड़े जब गुड्स स्टाफ मौजूद न हो तभी यात्रीगाड़ी के स्टाफ को सेवाएं देने के लिए लगाया जाए। वहीं प्रधानमंत्री का भी यही कहना है कि कम से कम स्टाफ से काम लिया जाए।